हरभजन सिंह ETO ने PSPCL को लेकर दिया अहम बयान

Edited By Urmila,Updated: 15 May, 2022 10:31 AM

harbhajan singh eto made an important statement regarding pspcl

पंजाब के बिजली मंत्री हरभजन सिंह ई.टी.ओ. ने आज बताया कि बिजली की मांग में भारी विस्तार होने के बावजूद पी.एस.पी.सी.एल. राज्यों में खपतकारों के सभी वर्गों को निर्विघ्न बिजली सप्लाई ...

चंडीगढ़: पंजाब के बिजली मंत्री हरभजन सिंह ई.टी.ओ. ने आज बताया कि बिजली की मांग में भारी विस्तार होने के बावजूद पी.एस.पी.सी.एल. राज्यों में खपतकारों के सभी वर्गों को निर्विघ्न बिजली सप्लाई कर रहा है। इस सम्बन्धित जानकारी देते कैबिनेट मंत्री ने कहा कि राज्यों में पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष मार्च महीने से तापमान तेजी से बढ़ने करके बिजली की मांग में भारी विस्तार देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि अप्रैल 2022 दौरान पी.एस.पी.सी.एल. ने 10000 मेगावाट की पीक बिजली मांग को पूरा किया है, जो अप्रैल 2021 की अपेक्षा 46 प्रतिशत अधिक था। मई 2022 में बिजली की यह असाधारण मांग लगातार जारी है और पी.एस.सी.एल. की तरफ से 10900 मेगावाट की पीक मांग पूरी की गई है, जो मई 2021 की अपेक्षा 60 प्रतिशत से अधिक है। मंत्री ने कहा कि इसके बावजूद खपतकारों की किसी भी श्रेणी पर कोई बिजली कट नहीं लगाया जा रहा और खेती मोटरों को भी निर्धारित समय अनुसार सप्लाई दी जा रही है।

आज यहां जारी एक प्रेस बयान में बिजली मंत्री ने आगे बताया कि जी.एच.टी.पी. लहरा मोहब्बत के एक यूनिट जिसको तकनीकी खराबी कारण बीती रात बंद कर दिया गया है, को छोड़ कर राज्यों के सभी थर्मल यूनिट चल रहे हैं। राजपुरा के दोनों यूनिट चालू हैं और सालाना ओवरहालिंग के लिए बंद टी.एस.पी.एल. की 660 मेगावाट वाली तीसरी यूनिट आज शरणार्थी से उत्पादन शुरू कर देगी। जी.जी.एस.एस.टी.पी. रोपड़ के सभी चार यूनिट उपलब्ध हैं और आगामी धान के सीजन के लिए कोयले की संभाल के लिए एक यूनिट स्टैंडबाय पर है क्योंकि एक्सचेंज में तुलनात्मक आधार पर सस्ती बिजली उपलब्ध है। इसके अलावा जी.एच.टी.पी. लहरा मोहब्बत के दो यूनिट इस समय चल रहे हैं और एक यूनिट स्टैंडबाय पर है। हरभजन सिंह ने बताया कि बीती रात लहरा मोहब्बत के 210 मेगावाट वाले यूनिट नंबर 2 के इलेक्ट्रोस्टेटिक प्रैसीपीटेटर्ज में तकनीकी खराबी आ गई, जिस उपरांत पी.एस.पी.सी.एल. के सी.एम.डी. ने मौके पर जायजा लेने के लिए प्लांट का दौरा किया।

चंडीगढ़ से बी.एच.ई.एल. इंजीनियरों की टीम भी साइट पर पहुंच गई है और मुख्य दफ्तर से बी.एस.एच.ई.एल. माहिर और रानीपेट से डिजाइन इंजीनियर लहरा मोहब्बत पहुंच कर नुकसान का पता लगाएंगे और यूनिट को जल्द से जल्द फिर चालू करने के लिए सहायता प्रदान करेंगे। मंत्री ने कहा कि खराबी के कारणों का विश्लेषण करके उस उपरांत उपयुक्त कार्यवाही करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है। बिजली मंत्री ने राज्यों के लोगों को भरोसा दिलाया कि पी.एस.पी.सी.एल. यूनिट को जल्द से जल्द चालू करने के लिए हरसंभव यत्न करेगा। पी.एस.पी.सी.एल. को धान के सीजन दौरान राज्यों में जरूरी कोयले और बिजली के लिए उचित प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं और हमारे अधिकारी केंद्रीय बिजली और कोयला मंत्रालयों के साथ लगातार संपर्क में हैं। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!