साहनेवाल में टिकट के ऐलान में फंसा पेच, 31 कांग्रेस नेता जता रहे दावेदारी

Edited By Urmila, Updated: 17 Jan, 2022 10:07 AM

stuck in ticket announcement in sahnewal 31 congress leaders are claiming

पंजाब की कांग्रेस हाईकमान की तरफ से विधानसभा मतदान के मद्देनजर 86 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है परन्तु हलका साहनेवाल में राज्य के सबसे अधिक कांग्रेसी 31 संभावी उम्मीदवारों ने यहां...

माछीवाड़ा साहिब (टक्कर): पंजाब की कांग्रेस हाईकमान की तरफ से विधानसभा मतदान के मद्देनजर 86 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है परन्तु हलका साहनेवाल में राज्य के सबसे अधिक कांग्रेसी 31 संभावी उम्मीदवारों ने यहां से चुनाव लड़ने की दावेदारी पेश करने पर हाईकमाव भी असमंजस में पड़ गई है कि यहां से किसको मैदान में उतारा जाए। हलका साहनेवाल से शिरोमणि अकाली दल बसपा गठजोड़ और ‘आप’ की तरफ से उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतार दिया गया है परन्तु कांग्रेस की टिकट को लेकर 31 उम्मीदवार होने के कारण पेच फंसा दिखाई दे रहा है। इस हलके से 31 संभावी कांग्रेसी उम्मीदवारों पर यदि नजर मारी जाए तो 2012 की विधानसभा मतदान लड़ चुके विक्रम सिंह बाजवा काफी सक्रिय हैं और टिकट के मजबूत दावेदार माने जा रहे हैं।

बाजवा पिछले 10 वर्षों से हलका साहनेवाल में लोगों के सुख-दुख में विचर रहे हैं और उनकी पकड़ भी काफी मजबूत है और लोग चर्चा अनुसार वह विरोधी राजनीतिक पार्टियों का डट कर मुकाबला कर सकते हैं। पिछले एक वर्ष से हलके में कांग्रेस के जिला प्रधान रुपिन्दर सिंह राजा गिल ने भी अपनी, सरगर्मियां काफी बढ़ाईं हैं जो कांग्रेस के ही पूर्व मंत्री स्व. कर्म सिंह गिल के सुपुत्र और कैबिनेट मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली के नजदीकी रिश्तेदार हैं। कैबिनेट मंत्री कोटली और हलका पायल के विधायक लखवीर सिंह लक्खा की तरफ से साहनेवाल में उनकी सरगर्मियां को काफी उत्साह दिया जिस कारण यह सभी कांग्रेस हाईकमान को भी राजा गिल को टिकट देने की सिफारिश कर रहे हैं और चर्चाओं अनुसार वह अपनी टिकट पक्की मान रहे हैं। राजा गिल ने हलके में अपनी, गतिविधियों बड़े योजनाबद्ध ढंग के साथ शुरु की हुई हैं और मजबूत उम्मीदवार के तौर पर उभर कर सामने आए हैं। 2017 की विधानसभा मतदान में कांग्रेस की तरफ से चुनाव लड़ चुकी सतविन्दर कौर बिट्टी भी इस बार फिर 2022 में टिकट के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है परन्तु वह हलके में पार्टी की गुटबंदी खत्म करने में नाकाम रही। यदि कांग्रेस हाईकमान इन मतदान में महिलाओं को प्राथमिकता देती है तो बिट्टी इस हलके से दोबारा टिकट के लिए आशाबद्ध है।

इसके अलावा लुधियाना नगर निगम में काऊंसलर पाल सिंह ग्रेवाल की तरफ से भी हलके में काफी बड़े-बड़े होर्डिंग्ज लगाकर अपनी दावेदारी जतायी जा रही है क्योंकि वह शहरी वोट पर अपना अच्छा आधार मान रहे हैं। नौजवान वर्ग की बात की जाए तो ‘नेशनल स्टूडैंट यूनियन आफ इंडिया’ के पूर्व प्रधान इकबाल सिंह ग्रेवाल ने भी कांग्रेस हाईकमान के पास इस हलके से चयन लड़ने की इच्छा अभिव्यक्ति है। इकबाल सिंह ग्रेवाल जहां नौजवान वर्ग में अपना अच्छा प्रभाव रखते हैं, वहीं वह एक बड़े किसान परिवार के साथ भी संबंध रखते हैं। नौजवानों में यूथ कांग्रेस देहाती के प्रधान लक्की संधू और जिला परिषद मैंबर रमनीत सिंह गिल भी टिकट लेने के लिए काफी जद्दोजहद में लगे हुए हैं परन्तु 31 संभावी उम्मीदवारों की सूची में किसको टिकट मिलती है और कौन अकाली दल और ‘आप’ का डट कर मुकाबला करेगा, यह तो आने वाले 1-2 दिनों में कांग्रेस हाईकमान की तरफ से दूसरी लिस्ट जारी करने पर ही पता लग सकेगा।

हलका साहनेवाल से 31 कांग्रेसी नेताओं ने चुनाव लड़ने की इच्छा अभिव्यक्ति है जिस कारण कांग्रेस हाईकमान को इस पर फैसला करना थोड़ा-सा कठिन महसूस हो रहा है परन्तु चर्चाएं यह हैं कि कहीं इन 31 की बजाय कोई ओर न बाजी मार जाए क्योंकि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू आजकल हलके से संबंधित गांव कूंमकलां के प्रसिद्ध गायक गिप्पी ग्रेवाल के साथ काफी नजदीकियां दिखाई दे रही हैं। कांग्रेस हाईकमान रेड़का खत्म करने के लिए यदि गिप्पी ग्रेवाल को चुनाव मैदान में उतार देती है तो सभी राजनीतिक समीकरण बदल सकते हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 

Related Story

Trending Topics

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!