ड्रग्स मामला: हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार को लगाई फटकार

Edited By Kalash, Updated: 07 Dec, 2021 10:39 AM

drugs case high court reprimands punjab government

6000 करोड़ रुपए से अधिक के ड्रग्स मामले में सोमवार को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने पंजाब सरकार से सवाल किया कि इस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं की..........

चंडीगढ़ (रमेश हांडा): 6000 करोड़ रुपए से अधिक के ड्रग्स मामले में सोमवार को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने पंजाब सरकार से सवाल किया कि इस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं की? क्या पंजाब सरकार साढ़े 4 साल से सोई हुई थी? इसके जवाब में पंजाब के एडवोकेट जनरल बी.एस. पटवालिया ने भी कोर्ट की दो टूक में हामी भरी और कहा कि अभी तक सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की है। कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि इस मामले में सिर्फ बातें हो रही हैं। कोई कार्रवाई अभी तक नहीं की गई है। अब इस मामले में वीरवार (9 दिसम्बर) को सुनवाई होगी, जहां पहले कोर्ट मित्र सीनियर एडवोकेट अनुपम गुप्ता को सुना जाएगा। उसके बाद बाकी पक्षों के वकीलों को सुना जाएगा। कोर्ट ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो इस मामले की हर दिन कार्रवाई की जा सकती है।

बिक्रम मजीठिया की अर्जी पर कोर्ट ने कहा-फैसला पब्लिक इंट्रस्ट में होगा
इस मामले में पार्टी बनाए जाने की अर्जी दाखिल करने वाले बिक्रम मजीठिया के वकील ने एक बार फिर कोर्ट से आग्रह किया कि उन्हें भी इस मामले में पार्टी बनाया जाए, क्योंकि उन्हें शंका है कि राजनीतिक द्वेष के कारण उन पर इस मामले में कार्रवाई हो सकती है। कोर्ट ने बिक्रम मजीठिया की अर्जी पर कहा कि यह जनहित का मामला है। इसलिए कोर्ट का फैसला एक व्यक्ति को लेकर नहीं, बल्कि जो फैसला होगा वह पब्लिक इंट्रस्ट में होगा। कोर्ट ने कहा कि हमने सभी आदेशों को पढ़ा हुआ है और सभी आदेशों को लेकर प्वॉइंट्स भी बनाए हुए हैं

सीलबंद रिपोर्ट पर हाईकोर्ट ने कहा-आने वाले समय पर विचार करेंगे
कोर्ट में सीलबंद रिपोर्ट को लेकर भी बात हुई, जहां पर पंजाब सरकार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मुताबिक सीलबंद कोई भी रिपोर्ट आती है तो उसे कानूनन सार्वजनिक नहीं किया जा सकता। वह कानून के नियमों के खिलाफ है जिसके बाद हाईकोर्ट ने कहा कि आने वाले समय पर इस पर विचार किया जा सकता है।
ड्रग्स से जो समस्याएं पंजाब में हुईं, उन पर प्राथमिकता से काम होना जरूरी है।

सुनवाई के समय ड्रग्स मामले को सबसे पहले उठाने वाले पूर्व डी.जी.पी. शशिकांत के वकील 
गुरविंद्र सिंह गैरी ने कहा कि उनके क्लाइंट की हमेशा से यही मंशा रही है कि जो मुख्य मुद्दे हैं, उनसे न भटका जाए। उन्होंने कभी यह नहीं कहा कि किसी राजनेता का नाम न लिया जाए लेकिन ड्रग्स से जो समस्याएं पंजाब में हुई हैं, उस पर प्राथमिकता से काम होना बेहद जरूरी है। वहीं ड्रग्स मामले में एस.टी.एफ. व अन्य जांच एजैंसियों की ओर से की गई जांच की सील बंद रिपोर्ट को सार्वजनिक किए जाने की मांग को लेकर अर्जी दाखिल करने वाले सीनियर वकील नवकिरण सिंह ने कहा कि मुझ पर ये आरोप लगाए जाते हैं कि मैं सिर्फ चुनावों के दौरान ही इस मामले में बोलता हूं लेकिन यह केस उन्होंने 2017 में फाइल किया था और तब से अभी तक इस मामले में सुनवाई चल रही है। इस दौरान उन्होंने पूर्व डी.जी.पी. शशिकांत पर भी सवाल उठाए और कहा कि वह इस मामले में बिक्रम मजीठिया का समर्थन करते हुए नजर आ रहे हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Lucknow Super Giants

Royal Challengers Bangalore

Match will be start at 25 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!