Punjab: पुलिस ने सुलझाई Blind Murder की गुत्थी, इस वजह से दिया था वारदात को अंजाम

Edited By Kamini,Updated: 15 May, 2024 04:57 PM

punjab police solved the mystery of blind murder

जिला पुलिस ने गांव साहरी में हुए अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

होशियारपुर : होशियारपुर जिला पुलिस ने गांव साहरी में हुए अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। प्रेस वार्ता में डीएसपीएस एस. संधू ने बताया कि 6 व 7 तारीख की मध्य रात्रि को गांव साहरी में सो रहे सुखविंदर सिंह पुत्र सुखदेव सिंह निवासी गांव साहरी की हवेली में 4-5 अज्ञात व्यक्तियों ने हत्या कर दी थी और उसके लेटे दूसरे व्यक्ति को भी जान से मारने की नियत से कई चोटें पहुंचाईं। इस पर सुखविंदर सिंह की पत्नी कमलजीत कौर के बयानों पर थाना नंबर 49 मेहटियाना में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई।

PunjabKesari

जांच के लिए पुलिस द्वारा एक टीम गठित की गई। इस दौरान पुलिस के हाथ उस समय बड़ी सफलता लगी, जब जांच दौरान मुखबिर की सूचना पर मामले को ट्रेस करते हुए आरोपी अमरजीत उर्फ ​​बाबा पुत्र प्यारा सिंह निवासी चकरोता थाना गढ़शंकर, हरजिंदर सिंह उर्फ ​​सोनू पुत्र गुरचरण सिंह निवासी कानपुर थाना बुलोवाल, सुनील उर्फ गोलू पुत्र जगजीवन राम निवासी सुखियाबाद थाना सदर, लवप्रीत उर्फ ​​अवि पुत्र कमलजीत निवासी चौहाल थाना सदर को 12 मई को गिरफ्तार किया गया।

घटना में 2 नाबालिग भी शामिल थे

इस घटना में शामिल मुख्य आरोपी अमरजीत के 2 नाबालिग लड़कों को 13 मई को गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के दौरान अमरजीत ने स्वीकार किया कि हरजिंदर सिंह उर्फ ​​सोनू पुत्र गुरचरण सिंह निवासी खानपुर और लवप्रीत उर्फ ​​अवनी पुत्र कमलजीत निवासी चौहाल थाना सदर दोनों खानपुर घर में रहते हैं। लवप्रीत ने उसकी मुलाकात हरजिंदर सिंह उर्फ ​​सोनू से करवाई और करीब 20-25 दिन से हरजिंदर सिंह के घर पर अपनी पत्नी और 2 बच्चों के साथ किराए पर रह रहा था। कई दिनों से वह और उसके साथी आरोपी खानपुर में रहकर आसपास के क्षेत्र में बाहर बंधी भैंसों की तलाश में थे ताकि रेकी करके रात के समय अपने साथियों के मिलकर भैंसों को चोरी कर सकें।

हवेली के मालिक सुखविंदर से पूछी भैंसों की कीमत

हरजिंदर सिंह ने गांव साहरी में हवेली में बंधी भैंसों के बारे में बताया और घटना से कुछ दिन पहले उसने अन्य आरोपियों के साथ हवेली के बाहर खेतों में बनी हवेली में करीब 17-18 भैंसें बंधी हुई देखीं और हवेली के मालिक सुखविन्दर सिंह ने उनकी कीमत पूछी और बहाने से सभी भैंसों को देखकर  वापस आ गया। तब सभी ने सोचा कि खुले में होने के कारण इन भैंसों को आसानी से चुराया जा सकता है। उसने बाबू चाचा नाम के अपने जानकार से शौनीक नाम के व्यक्ति निवासी उत्तर प्रदेश का मोबाइल नंबर लेकर बातचीत की, इसको शौकीन ने बताया कि उसके पास एक महिंद्रा बोलेरो कार है, जिसका इस्तेमाल अक्सर इस काम के लिए किया जाता है। उसने चोरी की भैंसें ले जाना भी स्वीकार किया। दोनों के बीच प्रति भैंस 12 हजार रुपए का सौदा तय हुआ।

घटना की तारीख में किया बदलाव

सभी आरोपी 28 अप्रैल 2024 को इस घटना को अंजाम देना चाहते थे लेकिन उस दिन सुनील उर्फ ​​गोलू किसी काम में व्यस्त होने के कारण उन तक नहीं पहुंच सका। इसी डर से उन्होंने इस घटना को अंजाम नहीं दिया। फिर अमरजीत उर्फ ​​बाबा ने शादी से एक दिन पहले 5 मई को हरजिंदर सिंह उर्फ ​​सोनू के साथ गांव साहरी के बाहर हवेली में रेकी की। घटना वाले दिन 6 मई को सुनील उर्फ ​​गोलू ने हरजिंदर सिंह को अपने घर बुलाया, जहां हरजिंदर सिंह उर्फ ​​सोनू और लवप्रीत पहले से ही मौजूद थे। शौकिन को महिंद्रा बोलेरो के साथ गांव खानपुर में हरजिंदर के घर भी बुलाया गया था। जो रात करीब 8 बजे उनके पास पहुंचा। अमरजीत उर्फ ​​बाबा, हरजिंदर सिंह, सुनील उर्फ ​​गोलू, लवप्रीत और अमरजीत उर्फ ​​बाबू उनके एक लड़के को हवेली में ले गए और अपने छोटे लड़के को शौकिन के पास उसकी कार में छोड़ दिया, ताकि वह शौकिन को हवेली का रास्ता दिखा सके और उसे हवेली में ला सके।

भैंसों की आवज सुनकर सुखविंदर की खुली नींद 

6 और 7 मई की रात को आरोपी अमरजीत सिंह उर्फ ​​बाबा अन्य आरोपियों के साथ भैंस चुराने के लिए हवेली पहुंचा और हवेली में बंधी भैंसों की रस्सियां ​​काटने लगा, जिस पर भैंसें शोर मचाने लगीं। इसी दौरान सो रहा सुखविंदर सिंह जाग गया और अमरजीत ने अपने साथी आरोपियों के साथ मिलकर कृपाण, दातर और डंडों से उसके सिर पर वार कर उसकी हत्या कर दी। उसने पास खड़े व्यक्ति को गंभीर रूप से घायल कर दिया और प्रेमी को फोन कर कार हवेली लेकर आने को कहा। उन्होंने 4 भैंसों और एक जोटा को बोलेरो गाड़ी में डाल लिया और हरजिंदर सिंह के साथ गाड़ी को मुख्य सड़क पर लगा दिया और मौके पर चले गए। अन्य आरोपी सुनील कुमार उर्फ ​​गोलू पुत्र लवप्रीत व अमरजीत मौके पर पैदल ही वापस गांव खानपुर की ओर भाग गए। आरोपियों को कोर्ट में पेश कर रिमांड लिया जाएगा और पूछताछ की जाएगी। मुकदमे में आरोपी अमरजीत उर्फ ​​बाबा के दोनों बेटों को कोर्ट में पेश किया गया है। घटना में प्रयुक्त महिंद्रा बोलेरो बरामद कर ली गई है।


 

Related Story

Trending Topics

IPL
Chennai Super Kings

176/4

18.4

Royal Challengers Bangalore

173/6

20.0

Chennai Super Kings win by 6 wickets

RR 9.57
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!