Punjab: हिमाचल से चल रहे अंतरराज्यीय नेटवर्क का पर्दाफाश, मास्टरमाइंड सहित 7 Drug Smugglers गिरफ्तार

Edited By Kamini,Updated: 11 May, 2024 04:08 PM

punjab interstate network running from himachal exposed

पंजाब पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए हिमाचल प्रदेश से चल रहे अंतरराज्यीय गैर कानूनी नैटवर्क का पर्दाफाश किया है।

पंजाब डेस्क : पंजाब पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए हिमाचल प्रदेश से चल रहे अंतरराज्यीय गैर कानूनी नैटवर्क का पर्दाफाश किया है। जानकारी के अनुसार फार्मा ओपियोइड के खिलाफ खुफिया ऑपरेशन में पंजाब पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने हिमाचल प्रदेश के बद्दी में एक फार्मा फैक्टरी से चल रहे साइकोट्रोपिक पदार्थ निर्माण और सप्लाई यूनिटों अंतरराज्यीय अवैध नेटवर्क का भंडाफोड़ किया है। यह जानकारी पंजाब के पुलिस डीजीपी गौरव यादव ने आज यहां सोशल मीडिया (X) पर दी है।

इस संबंधी जानकारी देते हुए पंजाब पुलिस डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि, ''5 राज्यों में चलाए गए इस पूरे ऑपरेशन के दौरान पुलिस ने कुल 7 नशा तस्करों/सप्लायर्स को गिरफ्तार किया है और इस दौरान 70.42 लाख नशीली गोलियां/कैप्सूल, 2.37 लाख रुपए की ड्रग मनी और 725.5 किलोग्राम ड्रग ट्रामाडोल पाउडर बरामद किया है। इन 5 राज्यों में पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र शामिल हैं।''

PunjabKesari

यह ऑपरेशन स्पेशल टास्क फोर्स, बॉर्डर रेंज, अमृतसर द्वारा तरनतारन के गांव कोट मोहम्मद खान के सुखविंदर सिंह उर्फ ​​धामी और अमृतसर के गोविंद नगर के जसप्रीत सिंह उर्फ जस्स नामक 2 ड्रग तस्करों के आगे-पीछे के संबंधों की 3 महीने की जांच के बाद किया गया है। गौरतलब है कि इन तस्करों को इसी साल फरवरी में ब्यास से 4.24 लाख नशीली गोलियों/कैप्सूल और 1 लाख रुपये ड्रग मनी के साथ गिरफ्तार किया गया था। इन दोनों ड्रग तस्करों की गिरफ्तारी के बाद एसपी एसटीएफ विशालजीत सिंह और डीएसपी एसटीएफ वविंदर कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीमों ने इस रैकेट के मुख्य सरगना एलेक्स पालीवाल को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में ट्रेस करके गिरफ्तार कर लिया है। इनके कब्जे से 9.04 लाख नशीली गोलियां/कैप्सूल और 1.37 लाख रुपए की ड्रग मनी बरामद की गई है। आरोपी एलेक्स पालीवाल के खुलासे के बाद हिमाचल प्रदेश में कार्रवाई करते हुए ड्रग कंट्रोल ऑफिसर सुखदीप सिंह और रमनीक सिंह की मौजूदगी में पुलिस टीमों ने बायोजेनेटिक ड्रग प्राइवेट लिमिटेड की जांच की और रिकॉर्ड जब्त कर लिया। इन रिकॉर्ड्स से पता चला कि कंपनी ने केवल 8 महीनों में 200 मिलियन से अधिक अल्प्राजोलम टैबलेट का निर्माण किया। रिकॉर्ड में महाराष्ट्र की मेसर्स एस्टर फार्मा को सप्लाई की बात भी सामने आई। इस संबंध में आगे की जांच में बद्दी स्थित बायोजेनेटिक ड्रग प्राइवेट लिमिटेड की दूसरी फार्मा निर्माता कंपनी स्माइलेक्स फार्मा केम ड्रग इंडस्ट्रीज का खुलासा हुआ।

स्माइलेक्स फार्मा कैम ड्रग इंडस्ट्रीज के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान, 47.32 ड्रग कैप्सूल और 725.5 किलोग्राम नशीला ट्रामाडोल पाउडर जोकि 1.5 करोड़ कैप्सूल बनाने के लिए काफी था, बरामद किया गया। रिकॉर्ड्स से पता चला कि स्माइलेक्स फार्मा केम ड्रग इंडस्ट्रीज ने एक साल के भीतर 6500 किलोग्राम नशीले ट्रामाडोल पाउडर खरीदा था। इस बीच नशीले पदार्थों के ट्रांसपोर्टेशन और वितरण की जांच करते हुए नशीले पदार्थों की तस्करी के अंतरराज्यीय नेटवर्क की जांच करते हुए 4 अन्य सप्लायर्स को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान इंतिजार सलमानी, प्रिंस सलमानी, बलजिंदर सिंह और सूबा सिंह के रूप में हुई। पुलिस टीमों ने चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन के पास एक ट्रांसपोर्टेशन वाहन से 9.80 लाख नशीली गोलियों/कैप्सूल की खेप बरामद की। इस संबंध में आगे की पूछताछ जारी है और अन्य गिरफ्तारियां होने की उम्मीद है।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

Related Story

Trending Topics

IPL
Chennai Super Kings

176/4

18.4

Royal Challengers Bangalore

173/6

20.0

Chennai Super Kings win by 6 wickets

RR 9.57
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!