अहम खबर: PGI में इस तारीख 15 से 18 साल के बच्चों को लगेगी 'वैक्सीन'

Edited By Kamini,Updated: 29 Dec, 2021 03:07 PM

on this date 15 to 18 year old children will get  vaccine  in pgi

कोविड के बढ़ते मरीजों के साथ ही देश में बच्चों की वैकसीनेशन पर फोकस बढ़ गया है। मामलों को देखते हुए को-वैक्सीन के एमरजैंसी यूज को मंजूरी मिलने साथ ही पी.जी.आई. में 3 जनवरी से 15 से 18 साल तक के बच्चों की वैकसीनेशन शुरू होने जा रही...

चंडीगढ़ (पाल): कोविड के बढ़ते मरीजों के साथ ही देश में बच्चों की वैकसीनेशन पर फोकस बढ़ गया है। मामलों को देखते हुए को-वैक्सीन के एमरजैंसी यूज को मंजूरी मिलने साथ ही पी.जी.आई. में 3 जनवरी से 15 से 18 साल तक के बच्चों की वैकसीनेशन शुरू होने जा रही है। कोवीशीलड वैक्सीन ट्रायल की प्रिंसिपल इनवैस्टीगेटर और पी.जी.आई. स्कूल ऑफ पब्लिक हैल्थ की प्रो. मधु गुप्ता मुताबिक इस उम्र ग्रुप के बच्चों को-वैक्सीन की 2 डोज दीं जाएंगी। पहली और दूसरी डोज में 28 दिनों का अंतर रहेगा। उन्होंने बताया कि को-वैक्सीन की एफ.के.सी. काफी बेहतर है। अब तक जितने नतीजे देखेंगे वह काफी अच्छे हैं, जिसके आधार पर इस को मंजूरी दी गई है। ऐसे में माता-पिता को किसी तरह का डर नहीं होना चाहिए। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। कोविड के मामले जिस तरह अधिक रहे हैं, उसे देखते हुए वैक्सीन इस समय बहुत जरूरी हो गई है। यदि वैक्सीन लेने के बाद बच्चों को कोविड होता भी है तो उसकी गंभीरता इसके साथ कम की जा सकेगी। मौजूदा समय में सभी स्कूल-कालेज खुल गए हैं। बच्चे वैक्सीन लगवाएंगे तो इसकी गंभीरता कम होगी। इसके साथ ही वह अपनी रुटीन की ऐक्टिविटी बिना डर के कर सकेंगे। बैनीफिशरी कोविन एप में वह अपनी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। पी.जी.आई. एडवांस पीडीऐट्रिक सैंटर में बच्चों के वैकसीनेशन प्रोग्राम का सैंटर बनाया गया है।

60 साल और उससे ऊपर लगेगी प्रिकॉशन डोज जनवरी 2022 को वैकसीनेशन प्रोग्राम शुरू हुए एक साल हो जाएगा। ऐसे में हैल्थ केयर वर्कर्ज और फ्रंट लाईन वर्करों को भी प्रिकॉशन (बूस्टर) डोज देने की तैयारी कर ली गई है। 10 जनवरी से शहर में हैल्थ केयर वर्कर्ज और फ्रंट लाईन वर्कर्ज मिलना शुरू हो जाएगा। डा. शहिद ने बताया कि हैल्थ केयर वर्करज़ और फरंटलाईन वर्करज़ और 60 साल और उस से पर के उन लोगों, जिन को कोई बीमारी है, को प्रिकॉशन डोज़ देना अजय ज़रूरी है। हैल्थ केयर वर्कर्ज और फरंटलाईन वर्कर्ज का कोविड मरीजों के साथ संपर्क सीधा है। इसलिए भी बूस्टर अहम है, जिससे उनके इन्फेक्शन रिस्क को कम किया जा सके। वहीं 60 साल से पर के कोमोरबिटीज (जिन को किसी तरह की बीमारी भी है) लोगों को सेफ्टी इस के साथ मिल सकेगी।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!