सऊदी अरब में फंसे पंजाब के 3 और युवक, वीडियो जारी कर सरकार से मांगी थी मदद

Edited By Vatika, Updated: 28 May, 2022 01:08 PM

saudi arabia punjab

ट्रैवल एजैंटों द्वारा धोखाधड़ी करने से साऊदी अरब में फंसे 28 भारतीयों में नूरपुरबेदी क्षेत्र के विभिन्न गांवों से संबंधित 3 नौ

नूरपुरबेदी (भंडारी): ट्रैवल एजैंटों द्वारा धोखाधड़ी करने से साऊदी अरब में फंसे 28 भारतीयों में नूरपुरबेदी क्षेत्र के विभिन्न गांवों से संबंधित 3 नौजवान भी शामिल हैं। इनमें निकटवर्ती गांव जटवाहड़ का रणजीत सिंह पुत्र रूप चंद, गांव बरारी से करन पुत्र हरविन्द्र सिंह तथा गांव संदोआ से बलजीत कुमार पुत्र देव राज के नाम शामिल हैं।

वर्णनीय है कि उक्त नौजवानों की एक वीडियो वायरल हुई थी जिसमें उन्होंने ट्रैवल एजैंटों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया था। आज इन नौजवानों के अभिभावकों ने मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान से नौजवानों की भारत वापसी की गुहार लगाई है। इन नौजवानों ने फोन पर अपने अभिभावकों के साथ मीडिया की हाजिरी में बातचीत करते हुए मांग की कि उन्हें भारत वापस लाया जाए तथा साऊदी अरब जाने के लिए खर्च की गई राशि वापस करवाने के साथ-साथ दोषी एजैंटों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

पंजाब के विभिन्न जिलों से संबंधित ये नौजवान फिलहाल साऊदी अरब के रियाद शहर में रह रहे हैं। नौजवानों का कहना है कि वह अप्रैल महीने के पहले सप्ताह साऊदी अरब आए थे परंतु ट्रैवल एजैंटों ने उन्हें हैवी की बजाय छोटे व्हीकलों के जाली लाइसैंस बना कर विदेश भेजा है। फोन पर बातचीत करते हुए गांव जटवाहड़ के रणजीत ने कहा कि वह रियाद से करीब 1200 किलोमीटर तक रोजगार के लिए भटके हैं परंतु उन्हें यह कह दिया गया कि वह बड़े ट्रक नहीं चला सकते। जिस करके उन्हें पुन: उक्त कंपनी में आना पड़ा।उन्होंने कहा कि उन्हें जितना जल्द हो सके भारत वापस पहुंचाया जाए। उनके द्वारा वहां लेबर कोर्ट में केस डाला हुआ है और यदि वे केस वापस लेते हैं तो वे दोबारा 2 साल कंपनी खिलाफ केस नहीं कर सकते तथा उन्हें उनकी शर्तों के मुताबिक काम करना पड़ेगा।

गांव बरारी के नौजवान करन ने कहा कि उनके पास न रोजगार है तथा न अच्छा खाना उपलब्ध है। वह ट्राले चलाना चाहते थे, परंतु उन्हें वापस लौटा दिया गया। अब वह घर आना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार एजैंटों के खिलाफ कार्रवाई करे तथा उनके पैसे वापस किए जाएं। गांव जटवाहड़ के रणजीत सिंह के पिता रूपचंद का कहना है कि उसने कर्जा उठा कर डेढ़ लाख रुपए एजैंट को दिए थे तथा घर के हालात भी अच्छे नहीं हैं। कच्चे मकान में जीवन व्यतीत करने वाले नौजवान रणजीत का पिता टेलर का कार्य करते हैं। गांव संदोआ से संबंधित तीसरे नौजवान बलजीत कुमार ने कहा कि उन्हें अब पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान से उम्मीद है कि वह उन्हें इंसाफ दिलाएंगे। उक्त नौजवानों के अभिभावकों द्वारा मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान तथा कैबिनेट मंत्री हरजोत सिंह बैंस को उनके बच्चों की मदद करने संबंधी अपील की गई है।

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!