औद्योगिक क्षेत्र में उभर रहे पंजाब को लेकर बोले कमल किशोर यादव

Edited By Kalash,Updated: 29 May, 2022 12:02 PM

kamal kishore yadav

कारोबार करने में आसानी के क्षेत्र में पंजाब अन्य राज्यों के लिए एक रोल मॉडल के तौर पर उभरा है

चंडीगढ़ (ब्यूरो): कारोबार करने में आसानी के क्षेत्र में पंजाब अन्य राज्यों के लिए एक रोल मॉडल के तौर पर उभरा है। राज्य ने औद्योगिक प्रोजैक्टों के लिए समयबद्ध मंजूरियों की एक मिसाल कायम की है और नवाचार एवं प्रौद्योगिकी पर आधारित उद्यम के उद्योग समर्थक माहौल की पेशकश की है। 

आला दर्जे का बुनियादी ढांचा और बेहतरीन संपर्क राज्य की क्षमता में आगे और विस्तार करता है। इन्वेस्ट पंजाब की मदद से पंजाब में अपना कारोबार शुरू करना बहुत आसान है जो कि सभी मंजूरियों और स्वीकृतियों के लिए एक वन-स्टॉप केंद्र है। इन्वेस्ट पंजाब के सी.ई.ओ. कमल किशोर यादव ने उद्योगों और निवेशकों को राज्य में निवेश के लिए न्यौता देते हुए बताया कि राज्य सरकार कारोबारों की मजबूती और सरकारी पारदर्शिता को बेहतर बनाने पर ध्यान दे रही है।

उन्होंने कहा कि पंजाब उद्योगों और सार्वजनिक संस्थाओं के मध्य सहयोग बढ़ाने के लिए निरंतर काम कर रहा है, जिसका नतीजा हमारे सुधारों से स्पष्ट झलकता है। हम उद्योगों को मंजूरियां और प्रोत्साहन देने के लिए ऑनलाइन और पारदर्शी प्रणाली की पेशकश करते हैं। इन्वेस्ट पंजाब (पंजाब ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन) ‘युनिफाइड रैगुलेटर’ के अपने मॉडल के साथ अपनी किस्म की एक ऐसी प्रणाली है। ब्यूरो के अधीन राज्य के विभिन्न विभागों के 23 अधिकारी काम करते हैं। इस अनूठे मॉडल को भारत सरकार द्वारा सभी 8 पैमानों पर 100 फीसदी के स्कोर के साथ 20 स्टेट इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन एजेंसियों में से एक ‘टॉप परफॉर्मर’ के तौर पर मान्यता दी गई है।

इन्वेस्ट पंजाब के मॉडल का जिला स्तर पर भी विस्तार किया जा रहा है, जहां डिस्ट्रिक्ट ब्यूरो ऑफ इंडस्ट्री एंड इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन (डी.बी.आई. आई.पी.) की स्थापना की जा रही है। राज्य ने पंजाब राइट टू बिजनेस एक्ट 2020 भी लागू किया है। एक्ट के अंतर्गत कोई भी एम.एस.एम.ई. स्व-प्रमाणन के आधार पर राज्य में कारोबार स्थापित कर सकता है जो साढ़े 3 सालों की अवधि के लिए वैध है।

सी.ई.ओ. ने कहा कि डीम्ड मंजूरियों की व्यवस्था पी.बी.आई.पी. (संशोधन) एक्ट 2021 के अंतर्गत लागू की गई है, जिसमें उद्योग यूनिट द्वारा स्व-प्रमाणन के आधार पर निर्धारित समय की अवधि की समाप्ति पर ऑनलाइन स्वचालित मंजूरियां जारी की जाएंगी। डीम्ड मंजूरियों के लिए प्रोटोकॉल के अलावा स्व-प्रमाणन के आधार पर मंजूरियों के ‘ऑटो रीन्यूअल’ की एक प्रणाली भी पेश की गई है।

हाल ही के समय में व्यापारिक उत्पादन शुरू करने वाले कुछ प्रमुख प्रोजेक्टों में पेप्सीको (संगरूर), लुधियाना में कोका कोला (लुधियाना बेव्रेजिस), पेप्सीको (पठानकोट) के लिए कांट्रेक्ट निर्माता वरुण बेव्रेजिस, आई.ओ.एल. केमीकल्ज (बरनाला), कारगिल (बठिंडा), वर्धमान स्पेशिलिटी स्टील (लुधियाना), राल्सन (लुधियाना), आरती इंटरनेशनल (लुधियाना), सेचुरी प्लाईवुड (होशियारपुर), हैप्पी फोर्जिग्ज (लुधियाना), हीरो ई-साइकिल्ज (लुधियाना), प्रीत ट्रेक्टर्ज (पटियाला), हारटेक्स रबर (लुधियाना), गंगा एक्रोवूल्ज (लुधियाना), हिंदुस्तान यूनीलीवर (पटियाला) शामिल हैं। स्वराज महेंद्रा, हैला लाइटिंग, एयर लिक्विड, ऐमिटी यूनिवर्सिटी, थिंक गैस, वर्बीयो, एच.एम.ई.एल. और अन्य बहुत सी इकाइयां निर्माण और मशीनरी स्थापना के अलग-अलग पड़ावों के अधीन हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!