Exclusive: किसान आंदोलन को लेकर शुगर मिल के चेयरमैन का बड़ा खुलासा

Edited By Vatika,Updated: 09 Aug, 2022 03:37 PM

kisan andolan

फगवाड़ा में एक तरफ जहां किसानों द्वारा नैशनल हाइवे नंबर 1 पर रोष धरना लगाकर ट्रैफिक जाम किया जा रहा है।

फगवाड़ा(जलोटा) :  फगवाड़ा में एक तरफ जहां किसानों द्वारा नैशनल हाइवे नंबर 1 पर रोष धरना लगाकर ट्रैफिक जाम किया जा रहा है। वहीं शुगर मिल के चेयरमैन सुखबीर सिंह संधर ने पंजाब केसरी के साथ विशेष वार्तालाप करते हुए बड़े खुलासे किए हैं। स. सुखबीर सिंह ने बताया कि यदि पंजाब में अफसरशाही मामले की गंभीरता को समझते हुए सहयोग करती तो अब तक 40 करोड़ रुपए की रकम किसान भाइयों के खातों में होती। उन्होंने कहा कि वह बार बार प्रदेश के बड़े अधिकारियों को विनम्रता सहित अनुरोध करते रहे हैं उनकी हरियाणा के गांव भूना में जमीन का सौदा हो चुका है जिसको लेकर खरीदार ने उनको साढ़े पांच करोड़ रुपए की रकम बतौर एडवांस अदा की है जिसे उन्होंने तुरन्त किसान भाइयों के खातों में जमा करवाया है।
PunjabKesari
चेयरमैन ने कहा कि ये सारी जमीन का सौदा 29 करोड़ के करीब हुआ था जिसकी बकाया करीब 24 करोड़ की रकम रजिस्ट्री होने के उपरान्त खरीददार द्वारा उनको मिलनी है। उपरोक्त तथ्य को लेकर उन्होंने तब तत्कालीन जिलाधीश कपूरथला सहित पंजाब के सम्बन्धित बड़े अधिकारियों को अनुरोध किया था कि उनको इस जमीन का सौदा पूरा करने की अनुमति प्रदान की जाए जिससे वे मिलने वाली करोड़ों रुपए की रकम किसान भाइयों के खातों में जमा करवा सके। उन्होंने कहा कि इसी तरह कोरोना महामारी के संकट के दौर में उन्होंने बैंकों आदि से 16 करोड़ की रकम बतौर कर्जा हासिल की थी लेकिन तब तत्कालीन जिलाधीश ने उक्त धनराशि को भी उन तक पहुंचने से रोक दिया था । यदि ये रकम उनको मिल जाती तो वह किसान भाइयों के खातों में ही जमा करवाते।

अफसरशाही ने  मुख्यमंत्री को भी हकीकत से दूर रखा है 
उन्होंने कहा कि मामले को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार भगवंत सिंह मान को उन्होंने बकायदा ईमेल भेजी थी और हक़ीक़त से अवगत करवाते हुए अनुरोध किया था कि वह अफसरशाही को आदेश दें कि मिल प्रबंधकों के साथ सहयोग कर करोड़ों रूपये की उक्त धनराशियां किसान भाइयों के खातों में जमा हो सके। लेकिन उनको ये बात बहुत अफसोस के साथ कहनी पड़ रही है कि उक्त सभी तथ्यों को बड़े अधिकारियों ने माननीय मुख्यमंत्री तक पहुंचने ही नहीं दिया है और उनको हक़ीक़त से रहस्यमय कारणों के चलते दूर रखा जा रहा है।

फगवाड़ा मेरे पुरखों की पवित्र जमीन है, देश छोड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता है
फगवाड़ा की पवित्र धरती उनके पुरखों की है और यह बातें जो कही जा रही है कि वह फगवाड़ा छोड़कर विदेश सेटल हो गए हैं पूरी तरह से गलत है। उन्होंने कहा कि फगवाड़ा से इंग्लैंड और इंग्लैंड से फगवाड़ा सहित कई अन्य देशों में आना जाना बतौर कारोबारी उनका हमेशा लगा रहता है। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में उनका परिवार रहता है इसीलिए वहां पर उनका सदैव आना जाना रहा है । उन्होंने कहा कि वह कोई धनराशि आदि लेकर नहीं गए हैं और यदि सरकार चाहे तो उनके सभी बैंक खातों सहित अन्य दस्तावेजों की गहराई से सरकारी स्तर पर जांच करवा सकती है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा किसी भी प्रकार की कोई धनराशि किसी भी बैंक से विदेश में नहीं भेजी गई है और न ही किसी प्रॉपर्टी आदि की खरीद फरोख्त विदेशी धरती पर की गई है। उन्होंने पंजाब के माननीय मुख्यमन्त्री भगवंत सिंह मान से पुनः अनुरोध करते हुए कहा कि वह हकीकत का खुद पता करवाएं और सरकारी अधिकारियों से शुगर मिल प्रबंधन को सहयोग करने हेतु आदेश दे जिससे किसान भाईयों की करोड़ों रुपए की रकम उनके बैंक खातों में जमा करवाई जा सके। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ऐसा करती है तो ये मामला बहुत जल्दी और आसानी से हल किया जा सकता है। 

Related Story

Trending Topics

India

South Africa

Match will be start at 04 Oct,2022 08:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!