पंचतत्व में विलीन हुए शिवसेना नेता सुधीर सूरी

Edited By Urmila,Updated: 06 Nov, 2022 02:43 PM

shivsena leader sudhir suri merged into panchtatva

रिष्ठ हिंदू नेता और शिवसेना के टकसाली के राष्ट्रीय प्रधान सुधीर कुमार सूरी पंचतत्व में विलीन हो गए हैं।

अमृतसर (गुरिंदर सागर): वरिष्ठ हिंदू नेता और शिवसेना के टकसाली के राष्ट्रीय प्रधान सुधीर कुमार सूरी पंचतत्व में विलीन हो गए हैं। उनका आज दुर्गियाना मंदिर नजदीक शिवपुरी श्मशानघाट में अंतिम संस्कार किया गया। संस्कार दौरान भारी संख्या में शिव सेना के समर्थक अंतिम विदाई देने पहुंचे।

PunjabKesari

जिक्रयोग्य है कि सुधीर सूरी के संस्कार से पहले अंतिम यात्रा निकाली गई जो अमृतसर के कई जगहों से होकर शहर से होती हुई दुर्गियाना मंदिर शिवपुरी पहुंची। सूरी की अंतिम यात्रा उनके घर बने मंदिर के पास शुरू हुई थी। अंतिम यात्रा दौरान अमृतसर जिला पुलिस छावनी में तबदील कर दिया गया था। प्रशासन इस समय काफी मुस्तेद था। डी.जी.पी. फीड बैक लेते हुए नजर आए। जब अंतिम यात्रा शुरू हुई तो समर्थकों द्वारा 'सुधीर सूरी अमर रहे' के नारे बी लगाए गए। बता दें कि यात्रा शुरू होने से पहले परिवार वालों ने कहा दिया था कि अगर कोई शिव सेना नेता भड़काऊ बयान देगा तो परिवार उसका साथ नहीं देगा। आखिर दुर्गियाना मंदिर के नजदीक शिवपुरी श्मशानघाट में सुधीर सूरी पंचतत्वों में विलीन हो गए। इस दौरान बड़ी संख्या सूरी के समर्थक और राजनीतिक नेता अंतिम विदाई देने पहुंचे।

ये है मामला 

बीते दिनों अमृतसर में शिव सेना हिंदुस्तान के प्रमुख सुधीर सूरी मूर्तियों की बेअदबी के खिलाफ गोपाल मंदिर के बाहर धरने पर बैठे थे। इस दौरान उन पर सरेआम गोलियां चलाई गईं। उन पर 4 गोलियां चलाई गईं। घायल अवस्था में उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने सूरी को गोली मारने वाले संदीप सन्नी को मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया। हिंदू नेता सूरी की मौत के बाद पूरे शहर में सनसनी फैल गई। सुधीर सूरी की हत्या के बाद परिवार ने अपनी मांगों को प्रशासन के सामने रखा था। उन्होंने कहा था कि अगर पुलिस ये मांगें नहीं मानेगी तो अंतिम संस्कार नहीं होने दिया जाएगा। शनिवार देर शाम पुलिस प्रशासन ने परिवार की सारी मांगों को स्वीकार कर लिया। गौरतलब है कि सुबह एक बार परिवार फिर संस्कार को लेकर अड़ गया था। उनकी मांग थी कि जब तक नजरबंद शिवसेना के नेताओं को छोड़ा नहीं जाएगा तब तक संस्कार नहीं होगा। जल्द ही प्रशासन ने उनकी इस मांग को भी मान लिया और परिवार द्वारा संस्कार करने पर दोबारा सहमति बनी। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!