सदगुरु की मिट्टी बचाओ यात्रा भारत पहुंची

Edited By Subhash Kapoor, Updated: 28 May, 2022 08:44 PM

sadhguru s soil save journey reaches india

यूरोप और मध्य पूर्व को पार करने और एक अकेले मोटरसाइकिल यात्रा पर 26 देशों का दौरा करने के बाद सदगुरु भारत में प्रवेश करेंगे और मिट्टी के विलुप्त होने के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए 25 दिनों में 9 राज्यों की यात्रा करेंगे।

जालंधर : यूरोप और मध्य पूर्व को पार करने और एक अकेले मोटरसाइकिल यात्रा पर 26 देशों का दौरा करने के बाद सदगुरु भारत में प्रवेश करेंगे और मिट्टी के विलुप्त होने के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए 25 दिनों में 9 राज्यों की यात्रा करेंगे। सदगुरु ने जो ईशा फाऊंडेशन के संस्थापक हैं, पैरिस, फ्रांस में मिट्टी बचाओ कार्यक्रम को संबोधित करते पृथ्वी के मरुस्थलीकरण को रोकने हेतु कहा है कि भविष्य में हमारे ग्रह पर सामने आने वाली आपदा बड़ी हो रही है क्योंकि उपजाऊ मिट्टी तेजी से रेत में बदल रही है। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने चेतावनी दी है कि मरुस्थलीकरण होने से 2045 तक खाद्य उत्पादन में 40% की गिरावट आ सकती है, जबकि दुनिया की आबादी 9 बिलियन को पार कर जाएगी । संकट का प्रभाव - कम से कम कहा जाए तो- खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालता है जिससे भयावह अनुपात का मानवीय संकट सामने आता दिखाई देता है। आखिरकार, क्या हम उन लोगों के बीच सभ्य व्यवहार की उम्मीद कर सकते हैं जिनके पास खाने के लिए खाना नहीं है?

मिट्टी के लिए यात्रा
स्थिति की गंभीरता को समझते हुए 21 मार्च 2022 को सदगुरु ने अपने मिट्टी बचाओ अभियान के हिस्से के रूप में मिट्टी के क्षरण को रोकने और इसके दुष्प्रभाव को वापस ठीक दिशा में के लिए तत्काल प्रयास में यूरोप, मध्य पूर्व और भारत से गुजरने वाली एक अकेले मोटरसाइकिल सवार की यात्रा शुरू की। यह अभियान देशों में नागरिक की बीच जागरूकता बढ़ाने और देशों में मिट्टी को बचाने के लिए मिट्टी के अनुकूल नीतियां तैयार करने के लिए प्रशासन से आग्रह करता है। अपनी पूरी यात्रा के दौरान, सदगुरु सार्वजनिक कार्यक्रमों का आयोजन करते रहे हैं, दुनिया भर के चुने हुए प्रतिनिधियों, नीति निर्माताओं, वैज्ञानिकों, प्रभावशाली, मीडिया और नागरिकों के साथ बातचीत करते हुए समर्थन जुटाने और मिट्टी बचाने के लिए समाधान पेश करते रहे हैं।

मिट्टी को बचाने के उपाय
अभियान का प्राथमिक उद्देश्य सरकारों से यह सुनिश्चित करने का आग्रह करना है कि कृषि भूमि में न्यूनतम 3 से  6% जैविक सामग्री हो। इसके बिना सभी कृषि योग्य मिट्टी का तेजी से क्षरण हो जाएगा और मिट्टी रेत में बदल जाएगी जिसमें कोई खाद्य फसल नहीं उग सकती है, जिससे वैश्विक खाद्य और जल सुरक्षा को खतरा पैदा हो जाता है। व्यापक उद्देश्य के बारे में अधिक बोलते हुए सदगुरु ने संयुक्त राष्ट्र कन्वैंशन टू कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन के पार्टियों के सम्मेलन के 15वें सत्र में 195 देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए एक त्रिस्तरीय रणनीति प्रस्तुत की।

अपने संबोधन में सदगुरु ने इस सीमा तक पहुंचने के लिए आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान करके किसानों के लिए कम से कम 3-6% जैविक सामग्री प्राप्त करने को आकांक्षी बनने पर जोर दिया। सदगुरु ने कि हमें किसानों के लिए कार्बन क्रेडिट प्रोत्साहन की सुविधा की आवश्यकता है। सदगुरु ने मौजूदा प्रक्रिया को अत्यधिक सरल करने का आह्वान करते हुए कहा कि अभी यह प्रक्रिया बहुत जटिल है। अपनी तीसरी रणनीति को संबोधित करते हुए उन्होंने समझाया कि कार्बनिक सामग्री परिपूर्ण मिट्टी से उगाए गए भोजन के लिए बेहतर गुणवत्ता का एक माप विकसित करने की आवश्यकता है। 

मिट्टी बचाओ यात्रा के मील के पत्थर
लंदन-ब्रिटेन से शुरू हुई सदगुरु की 100 दिन की करीब 30,000 कि.मी. की यात्रा कई यूरोपीय और मध्य पूर्व देशों से होकर गुजर चुकी है। अभियान की शुरुआत के बाद से 72 राष्ट्र मिट्टी को बचाने पर कार्य करने के लिए सहमत हुए हैं। भारत में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं जैसे कांग्रेस, भाजपा, आप, टीआरएस, बीजद, सपा और शिवसेना सहित पूरे दिल से अभियान का समर्थन किया है। आधा मिलियन से अधिक छात्रों ने भारत में मंत्रियों को पत्र लिखकर मिट्टी के पुनर्जीवन के लिए कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। अजय देवगन, आर माधवन, रणबीर कपूर, शिल्पा शेट्टी और जूही चावला से लेकर क्रिकेटर हरभजन सिंह, एबी डिविलियर्स, मैथ्यू हेडन और कई अन्य हस्तियां इस अभियान के लिए आगे आए हैं।

मिट्टी बचाओ यात्रा भारत में आने वाली है
संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियां पर्याप्त वैज्ञानिक डेटा के साथ कह रही हैं कि ग्रह पर केवल अस्सी से सौ फसलों के लिए कृषि योग्य मिट्टी है। यदि भूमि का क्षरण मौजूदा दरों पर जारी रहता है, तो 2050 तक 90% ग्रह एक रेगिस्तान में बदल सकता है। जोकि अब से तीन दशक से भी कम समय है। हम ऐसे समय में हैं जहां हम मिट्टी पर अपना ध्यान दे सकते हैं और उसको सुधरने के लिए उपाय कर सकते हैं। अगर हम 20-30 साल और इंतजार करते हैं, तो हमारे लिए नुकसान को ठीक दिशा में मोड़ने में बहुत देर हो जाएगी। लोकतांत्रिक देशों में जनता की आवाज चुनी हुई सरकार का जनादेश बन जाती है। इसलिए, समाधान हमारी सरकार को मिट्टी बचाने के लिए नीतिगत बदलाव करने के लिए प्रेरित करने के लिए एक मजबूत आवाज उठाने में निहित है। अभियान के संदेश को आगे बढ़ाने के लिए सदगुरु 26 देशों में अपनी यात्रा पूरी करने के बाद इस महीने के अंत में गुजरात के जामनगर पहुंचेंगे और 25 दिनों में 9 राज्यों का भ्रमण करेंगे। हमारी धरती को बचाने के लिए आवाज उठाने का यही समय है।
 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

284/10

378/3

India

416/10

245/10

England win by 7 wickets

RR 4.63
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!