नौकरियों में ठगी के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा: वेरका

  • नौकरियों में ठगी के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा: वेरका
You Are HerePunjab
Friday, May 19, 2017-10:03 PM

अमृतसर: पंजाब के अमृतसर नगर निगम में नौकरियां दिलाने में ठगी के मामले में सभी पीड़ितों ने आज राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष एवं विधायक डा. राजकुमार वेरका के समक्ष इन्साफ की गुहार लगाई। डॉक्टर वेरका ने कहा कि ये सीधे तौर पर धोखाधड़ी का मामला है इसलिए इस मामले में आज ही प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। अगर इस मामले का आरोपी बड़े से बड़े ओहदे पर बैठा होगा, तो भी उसे बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि गरीबों के साथ बहुत बड़ा धोखा हुआ है। नगर निगम के अधिकारियों और कुछ नेताओं की मिलीभगत से 46 से अधिक लोगों से पक्की नौकरी के नाम पर तीन-तीन लाख रुपए वसूले गए। उन लोगों को नगर निगम के कार्ड जारी किए गए, फर्जी नियुक्ति पत्र जारी किए गए और उन्हें ठेके में रख कर बेवकूफ बनाया गया।   

 

गौरतलब है कि तरनतारन के गांव काजीकोट के निवासी सुखविंदर सिंह राजू ने विभिन्न गांवों के 46 लोगों से पचास हजार रुपए से तीन लाख रुपए वसूल कर निगम में ठेके पर नौकरी दी थी। पीड़ित सुरजीत सिंह, जुगराज सिंह और विक्रमजीत सिंह ने बताया कि अटारी, झबाल, राजाताल, अन्नगढ़, मक्खनविंड, दबुर्जी सहित अन्य गांवों के 46 लोगों से राजू ने पैसे लेकर निगम में नौकरी पर रखा था। उन लोगों को जब पता लगा कि वे निगम के मुलाजिम नहीं तो सभी लोगों ने राजू से नौकरी और पैसे से बारे में पूछा तो उसने कहा था कि सारे पैसे और कागज ठेकेदार रवि चौहान के पास हैं और रवि पिछले कई दिनों से फरार है। राजू नगर निगम के ठेकेदार रवि चौहान का कारिंदा है। यह सभी लोग पिछले एक वर्ष से नौकरी कर रहे थे।  
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!