सहकारी बैंक से सेफ काटकर 14.51 लाख चोरी

  • सहकारी बैंक से सेफ काटकर 14.51 लाख चोरी
You Are HerePunjab
Saturday, May 20, 2017-3:31 PM

भटिंडा (बलविंद्र): नजदीकी गांव त्यौणा में रात के समय चोरों ने जंगला उखाड़कर सेफ काटकर 14.51 लाख रुपए चोरी कर लिए। बैंक पूरी तरह असुरक्षित है तथा यहां कोई चौकीदार भी नहीं होता। एस.एस.पी. भटिंडा तथा अन्य पुलिस अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।

कैसे हुई वारदात
मौजूद स्थिति से अंदाजा लगा कि रात के समय कुछ अज्ञात चोर बैंक के सामने पहुंचे, जिनकी गिनती 3 से 4 थी। उन्होंने पहले बैंक का जंगला उखाड़ा फिर वे बैंक के अंदर 2 ताले तोड़कर कैश सेफ तक पहुंचे। अंत में उन्होंने सेफ को बिजली कटर से एक तरफ से काट लिया। ऊपर के तथा निचले दराज तक पहुंचने के लिए उन्होंने सेफ को 2 बार काटा, जबकि तीसरे दराज से राशि निकालने के लिए उन्होंने दराज के अंदर भी एक छोटा-सा कट मारा। इस तरह वे 14,51,473 रुपए चोरी करने में कामयाब हो गए। चाहे पुलिस ने सी.सी.टी.वी. कैमरों की रिकार्डिंग अपने कब्जे में ले ली है, परंतु बैंक में दाखिल होते ही चोरों ने सबसे पहले कैमरों को तोड़कर फैंका दिया।

पूरी तरह असुरक्षित है बैंक
यह बैंक गांव के बाहर दाना मंडी में बना हुआ है, जो कि 1978 से पुरानी इमारत में ही स्थित है, जिसकी छत या दीवार तक गिरने का खतरा बना हुआ है। इसके आसपास कोई भी घर या कोई इमारत नहीं है। जबकि यहां कोई चौकीदार भी नहीं होता। 

पहले भी 3 बार हुई वारदात, प्रबंधकों ने नहीं सीखा सबक
एक बैंक कर्मचारी ने बताया कि पिछले करीब 10 सालों में इस बैंक में पहले भी 3 बार चोर सेफ तक पहुंच चुके हैं परंतु उनसे सेफ नहीं काटी गई। अब चौथी बार प्रोफैशनल चोरों ने न सिर्फ सेफ काटी, बल्कि राशि भी ले गए। 

क्या कहते हैं बैंक मैनेजर
बैंक मैनेजर मनदीप सिंह का कहना है कि जब भी कैश एकत्र होता है तो मुख्य ब्रांच की एक कैश वैन आती है तथा कैश ले जाती है। गत दिवस भी करीब 3 बजे कैश वैन 15 लाख रुपए से ज्यादा कैश ले गई थी। उसके बाद भी कुछ सोसायटियां, पैट्रोल पम्प या किसान पैसे जमा करवा देते हैं। कैश वैन दोबारा नहीं आ सकती थी, इसलिए पूरा कैश बैंक में ही छोडऩा पड़ा। उन्होंने कहा कि बैंक की सुरक्षा के मद्देनजर वह कई बार अपने विभाग को लिख चुके हैं कि ब्रांच को गांव के अंदर शिफ्ट किया जाए क्योंकि यहां न तो चौकीदार होता है तथा न ही इमारत सुरक्षित है। जहां अक्सर कैश पड़ा रहता है पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी।

बैंक में रात के समय कैश छोडऩा लापरवाही: डी.एस.पी.
मौके पर पहुंचे डी.एस.पी. गोपाल चंद ने कहा कि प्रोफैशनल चोरों ने वारदात को अंजाम दिया है, जिनको जल्दी ही पकड़ लिया जाएगा। रात के समय बिना सुरक्षा बैंक में पैसे रखना पूरी तरह लापरवाही है। वह बकायदा लिखित तौर पर उच्चाधिकारियों को सिफारिश करेंगे कि बैंकों को हिदायत की जाए कि वे अपनी सुरक्षा प्रति खुद ही जागरूक होंगे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !