जैट एयरवेज की लापरवाही से यात्री परेशान, रिफंड में भी मुश्किलें

  • जैट एयरवेज की लापरवाही से यात्री परेशान, रिफंड में भी मुश्किलें
You Are HerePunjab
Friday, December 16, 2016-5:45 PM

जालंधर: धुंध व कोहरे के चलते फ्लाइटें कैंसिल या देरी से जाने के कारण पहले ही हवाई यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है परन्तु जैट एयरवेज नामक प्राइवेट हवाई कम्पनी की लापरवाही ने तो यात्रियों की परेशानियां और भी बढ़ा दी हैं। यात्रियों को रिफंड लेने में मुश्किलें आ रही है। अमृतसर के राजासांसी स्थित हवाई अड्डे में जैट एयरवेज के काऊंटरों को समय से पहले बंद किया जा रहा है। जिस कारण अनेकों यात्रियों को इसका खमियाजा सहन करना पड़ रहा है। आज भी राजासांसी हवाई अड्डे में जैट एयरवेज की दोपहर 2.35 बजे जाने वाली फ्लाइट के लिए अधिकारियों ने काऊंटर को 1.55 बजे ही बंद कर दिया था। धुंध के कारण जो यात्री 2 बजे या 2.10 पर हवाई अडडे के अंदर प्रवेश कर गए थे, उन्हें बोॄडग पास नहीं दिए गए, जिस कारण अनेकों यात्रियों की फ्लाइटें मिस हो गईं। 

अधिकारियों का व्यवहार यात्रियों के प्रति अनुकूल नहीं है। धुध व कोहरे के कारण स्वाभाविक है कि कई यात्री 5-10 मिनट देरी से हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे, इसलिए उन्हें एडजस्ट करने की जिम्मेदारी भी जैट एयरवेज अधिकारियों की होनी चाहिएं परन्तु राजासांसी हवाई अड्डे पर अधिकारी तो यात्रियों की बात सुनने के लिए तैयार ही नहीं हैं। कुछ ट्रैवल एजैंसियों को भी जैट एयरवेज से मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। अगर धुंध के कारण फ्लाइट मिस हो जाती है तो उस स्थिति में यात्रियो ंको एयरलाइन से दिए जाने वाले रिफंड को लेकर देरी की जा रही है, जिससे यात्री जैट एरवेज के प्रति आग बबूला हो रहे हैं। 

जैट एयरवेज के अधिकारियों ने अगर अपना रवैया ठीक न किया तो आने वाले समय में जैट एयरवेज से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या में भारी कमी आ सकती है। पहले ही नोटबंदी के कारण हवाई सफर करने वाले लोगों की गिनती काफी घट गई है तथा एयरलाइन्स के बीच मुकाबला और कड़ा हो गया है। जैट एयरवेज प्रबंधन को विशेष रूप से राजासांसी हवाई अड्डे की तरफ ध्यान देना होगा तथा वहां तैनात अधिकारियों को या तो तबदील करना होगा या फिर उन्हें अपना रवैया बदलने के लिए कहना होगा। 

काऊंटरों को समय से पहले बंद न किया जाए
यात्रियों को यह भी शिकायत है कि कम से कम धुंध वाले मौसम में तो जैट एयरवेज के काऊंटरों को समय से पहले बंद न किया जाए। अगर किसी कारणवश कोई यात्री धुंध के कारण 5-10 मिनट देरी से पहुंचता है तो उन्हें सफर करने की अनुमति दी जानी चाहिए। राजासांसी हवाई अड्डे पर अमृतसर से दिल्ली जाने वाली फ्लाइटों की गिनती पहले ही कम है तथा उनके बीच अंतर भी काफी होता है। इसलिए क्या जैट एयरवेज प्रबंधन इन मामलों की तरफ ध्यान देगा, इस पर अभी प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है। 

फ्लाइट रद्द होने की सूचना या समय बदलने की सूचना समय पर नहीं मिलती
जैट एयरवेज में सफर करने वाले यात्रियों को यह भी शिकायतें है कि फ्लाइट रद्द होने या फ्लाइट का समय बदलने की सूचना समय पर उन्हें नहीं दी जाती है। अगर फ्लाइट ने देरी से जाना होता है तो इसकी सूचना केवल 1 घंटे पहले ही यात्रियों को मिलती है। इसलिए जैट प्रबंधन को अपनी कार्यशैली में भी तबदीली लाने की जरूरत है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!