सरकारी अस्पताल होंगे आधुनिक तकनीकों से लैस : ब्रह्म महेन्द्रा

You Are HerePunjab
Saturday, November 11, 2017-12:31 PM

अमृतसर  (दलजीत): पंजाब के सरकारी अस्पतालों में और बढिय़ा स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए राज्य सरकार वचनबद्ध है। मरीजों की सुविधा के लिए जहां अस्पतालों को आधुनिक तकनीकों से लैस किया जाएगा, वहीं डाक्टरों और दूसरे स्टाफ की कमी को पूरा करने के लिए कैबिनेट की स्वीकृति के बाद नए स्टाफ की भर्ती की जाएगी। उक्त जानकारी स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महेन्द्रा ने आज सिविल अस्पताल के निरीक्षण के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए दी।


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को अमृतसर के सिविल अस्पताल पर गर्व है। इस अस्पताल ने राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर विशेष उपलब्धियां प्राप्त कर मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि पिछली अकाली-भाजपा गठजोड़ सरकार द्वारा राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्यान न देने से सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं प्रभावित हुई थीं परन्तु अब कांग्रेस सरकार सत्ता में आते ही स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर करने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है।


 उन्होंने कहा कि राज्य के कई जिलों का निरीक्षण कर अस्पतालों में मिलने वाली कमियों को जल्द से जल्द दूर कर मरीजों को राहत दी जाएगी। उन्होंने सरकारी डाक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों की पीठ थपथपाते हुए कहा कि अस्पतालों का मेहनती स्टाफ अच्छे कामों से मरीजों की सेवा कर रहा है। मंत्री ने सिविल अस्पताल के इंचार्ज डा. चरनजीत और एस.एम.ओ.-कम-डिप्टी मैडीकल कमिश्नर डा. राजिन्द्र अरोड़ा द्वारा किए जा रहे कार्यों की भी सराहना की।

 

कैंसर व ड्रग को कंट्रोल करने पर खर्च होंगे 174 करोड़ रुपए


पंजाब राज्य बाल सुरक्षा कमिशन द्वारा सरकारी मैडीकल कालेज के आडिटोरियम में बच्चों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए शिक्षा विभाग, पुलिस, स्वास्थ्य, पंचायत व सामाजिक सुरक्षा महिला व बाल सुरक्षा विभाग द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित सैमीनार को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महिन्द्रा ने कहा कि हम सभी का दायित्व है कि हम बच्चों के अधिकारों की रक्षा करें। आज बच्चेे में नशों में लिप्त हैं और उन्हें रोकने के लिए अभिभावकों को जागरूक होना पड़ेगा।


उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने नशा करने वाले बच्चों पर ही एन.डी.पी.एस. एक्ट लगा कर जेल में बंद कर दिया जो कि बच्चों के लिए ठीक नहीं है। हमारा दायित्व है कि हम नशे बेचने वालों व नशों का प्रयोग करने वालों में अंतर करें और नशे का कारोबार करने वालों को जेलों में बंद करें।


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार कैंसर व नशे की रोकथाम के लिए 174 करोड़ रुपए खर्च कर रही है जिसके अधीन 57 नए नशा छुड़ाओ केंद्र पी.जी.आई. मॉडल अधीन खोले जा रहे हैं। श्रुति कक्कड़, चेयरपर्सन राष्ट्रीय कमिशन बाल सुरक्षा नई दिल्ली ने कहा कि बच्चों के प्रति जुर्म में बढ़ौतरी हो रही है जो कि ङ्क्षचता का विषय है।

 

सैमीनार में डा. राजेश कुमार, कार्यकारी डायरैक्टर एस.पी.वाई.एम. नई दिल्ली, डा. पी.डी. गर्ग आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर सांसद गुरजीत सिंह औजला, सुरेश कालिया, कमलदीप सिंह संघा जिलाधीश अमृतसर, अलका कालिया सहायक कमिश्नर, डा. तेजबीर सिंह, डा. राजविन्द्र सिंह गिल, जुगल किशोर शर्मा व अन्य भी उपस्थित थे।


सांसद औजला की रिपोर्ट पर होगा एक्शन
महेन्द्रा ने कहा कि सांसद गुरजीत सिंह औजला द्वारा गुरू नानक अस्पताल में किए गए अचानक निरीक्षण दौरान सामने आई कमियों की रिपोर्ट उनको मिल गई है। मैडीकल शिक्षा और खोज विभाग के डायरैक्टर की इस संबंध में ड्यूटी लगा दी गई है। रिपोर्ट के आधार पर एक्शन लेने के आदेश दे दिए गए हैं।


डैपुटेशन वाले पद होंगे स्थायी
स्वास्थ्य विभाग इंप्लाइज वैल्फेयर एसोसिएशन के चेयरमैन पं. राकेश शर्मा द्वारा दिए मांग पत्र पर गौर करते स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में डैपुटेशन पर कई स्थानों पर स्टाफ लगाया गया है। जिन अस्पतालों में जरूरत होगी उन में जल्द डैपुटेशन वाले स्टाफ के पद स्थायी किए जाएंगे। इसके अलावा मंत्री द्वारा सिविल अस्पताल में स्टाफ की कमी को जल्द पूरा करने का भी भरोसा दिया गया।

 

स्वास्थ्य मंत्री ने डाक्टरों को दिए गुर
स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म महेन्द्रा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एस.एम.ओ. और सिविल अस्पताल के डाक्टरों के साथ विशेष बैठक की। मंत्री ने डाक्टरों को मरीजों की सेवा करने के लिए प्रेरित किया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वह उन के साथ हैं। डाक्टर भगवान का रूप है, इस तथ्य को सामने रखते हुए ईमानदारी और लगन से काम करें।
वहीं महेन्द्रा सिविल सर्जन डा. नरिन्द्र कौर की जिला अमृतसर में बढिय़ा सेवाओं को ले कर काफी प्रभावित हुए। मंत्री ने कहा कि डा. नरिन्द्र कौर ने जिले में भ्रूण हत्या रोकने के लिए विशेष प्रयत्न किए हैं।

 

सिविल अस्पताल को मिलेंगी 2 एंबुलैंस
महेन्द्रा ने कहा कि सिविल अस्पताल को जल्द स्वास्थ्य विभाग नई एंबुलैंस दी जाएगी। इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री के साथ आए सांसद गुरजीत सिंह औजला ने भी अपने फंड में से अलग तौर पर अस्पताल को एंबुलैंस देने की घोषणा की।

 

ये थे मौजूद
सांसद गुरजीत सिंह औजला, विधायक सुनील दत्ती, विधायक तरसेम सिंह डी.सी., पंजाब महिला कांग्रेस की प्रधान ममता दत्ता, स्वास्थ्य विभाग के डायरैक्टर डा. राजीव भल्ला, सिविल सर्जन डा. नरिन्द्र कौर, सहायक सिविल सर्जन डा. रामेश, डा. चरनजीत, डा. राजिन्द्र अरोड़ा, पं. राकेश शर्मा, एस.एम.ओ. डा. विजय सरोआ, डा. आत्मजीत बसरा, प्रधान जसबीर कौर, संदीप अग्रवाल, डा. सेठी, डा. रियाड़, डा. अरुण, सचिन, प्रधान दीपक, डा. ब्रिज व अन्य मौजूद थे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!