आशुतोष महाराज मामला: हाईकोर्ट ने दिया आखिरी मौका, अब 5 मई को बहस

  • आशुतोष महाराज मामला: हाईकोर्ट ने दिया आखिरी मौका, अब 5 मई को बहस
You Are HerePunjab
Friday, April 21, 2017-10:38 AM

जालंधर: डेरा नूर महल दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के मुखिया आशुतोष महाराज के शरीर का अंतिम संस्कार करने के आदेशों के खिलाफ याचिका पर बहस करने के लिए पंजाब सरकार ने वीरवार को फिर एक बार समय दिए जाने की अपील की।
 
ए.जी. ने कहा कि एस.वाई.एल. को लेकर एक अहम बैठक है, इस कारण वह बहस नहीं कर सकते। हाईकोर्ट ने इस पर सख्त रुख अपनाते हुए कहा कि बार-बार समय मांगने की गलती न की जाए, इस बार अंतिम मौका दे रहे हैं और 5 मई को हर हाल में इस मामले में पंजाब सरकार अपना पक्ष रखे। 

पंजाब के एडवोकेट जरनल अतुल नंदा ने वीरवार सुबह हाईकोर्ट के सामने पेश होकर आग्रह किया कि एस.वाई.एल. विषय पर एक अहम बैठक होने जा रही है। इस कारण वे बहस करने में असमर्थ हैं। पिछली सुनवाई पर भी हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार द्वारा समय मांगने पर कड़ी फटकार लगाते हुए इस मामले को गंभीरता से न लेने का आरोप लगाया था। हाईकोर्ट ने कहा था कि ऐसे तो इस मामले का कभी निपटारा ही नहीं हो पाएगा। 
खंडपीठ ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा की अभी यही तय नहीं हो पाया है की इस मामले में राज्य सरकार का स्टैंड क्या है। जिस तरह से राज्य सरकार कार्रवाई कर रही है उससे तो यही लगता है की सरकार इस मामले में निष्पक्ष नहीं है।

इस मामले में एक सुनवाई पर महाराज के कथित पुत्र दिलीप कुमार झा और संस्थान की ओर से लगभग तीन घंटे चली बहस में अपनी-अपनी दलीलें पूरी कर ली गई थी। इन दोनों पक्षों की दलीलें पूरी होने पर हाईकोर्ट ने इस मामले में पंजाब सरकार को अपना पक्ष रखने के लिए मामले की सुनवाई स्थगित कर दी थी।

लेकिन उसके बाद लगातार तीन चार सुनवाई से पंजाब सरकार इस मामले में समय की मांग कर रही है और अपना पक्ष नहीं रख पा रही। वीरवार को हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार को समय देते हुए स्पष्ट कर दिया कि वो इस मामले में उनको अंतिम बार समय दे रहे हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!