आदर्श स्कूल में बच्चें की वर्दियों को लेकर हंगामा

  • आदर्श स्कूल में बच्चें की वर्दियों को लेकर हंगामा
You Are HerePunjab
Saturday, December 17, 2016-1:26 PM

भटिंडा (परमिंद्र): कैनाल कालोनी स्थित आदर्श स्कूल में बज्जों को वर्दियां वितरित करने के दौरान हंगामा हो गया। बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल पर बच्चों को अधूरी तथा निम्न स्तरीय वर्दियां देने का आरोप लगाकर खूब हंगामा किया। मामला इतना बढ़ गया कि स्कूल प्रबंधन को पुलिस को बुलवाना पड़ा। बाद में अभिभावकों को समझाकर मामला सुलझाया गया। 


पैंट-शर्ट को देखकर भड़के अभिभावक 
आदर्श स्कूल में बज्जों को वितरित की गई पैंट-शर्ट व टाई को देखकर अभिभावक भड़क गए। मौके पर पहुंचे अभिभावकों दविंद्रपाल, सुरिंद्र कुमार, पिंकी, पवन कुमार, ज्योति, सुरेश कुमार, सुनीता रानी व सर्बजीत सिंह ने कहा कि बच्चों को नियमानुसार पूरी वर्दी नहीं दी गई। यही नहीं जो कपड़े दिए गए हैं वे भी घटिया किस्म के हैं जो सर्दियों पहनने के लायक नहीं हैं। अभिभावकों ने प्रिंसीपल कार्यालय में घुसकर प्रबंधकों को उच्चस्तरीय व मुकम्मल वर्दी देने को कहा। 


400 रुपए में कैसे दें पूरी वर्दी 
स्कूल इंचार्ज गुरप्रीत कौर व स्कूल कमेटी के सदस्य करनैल सिंह ने बताया कि सरकार की ओर से उक्त सारी वर्दी के लिए मात्र 400 रुपए भेजे जाते हैं। स्कूल को वर्दियों के लिए बच्चों के हिसाब से 1.83 लाख रुपए की ग्रांट आई थी जिसकी वर्दियां खरीदी गई हैं। उन्होंने कहा कि 400 रुपए में निर्धारित वर्दी मुहैया नहीं करवाई जा सकती है। स्कूल प्रबंधन वर्दी की क्वालिटी के साथ भी समझौता नहीं कर सकता जिस कारण बच्चों को जरूरी कपड़े ही दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्दी की ग्रांट में कोई हेर-फेर नहीं किया गया। कुछ लोग जान बूझकर स्कूल के कार्य में अड़चने डाल रहे हैं। 

 

स्वैटर, बूट-जुराबें नहीं दीं
अभिभावकों ने बताया कि नियमों के अनुसार बच्चों को पैंट, शर्ट, सर्दियों में स्वैटर, बूट-जुराबें, टाई-बैल्ट आदि दिया जाना अनिवार्य है, लेकिन स्कूल की ओर से केवल पैंट-शर्ट व टाई देकर काम चलाया जा रहा है। अभिभावकों ने आरोप लगाए कि स्कूल प्रबंधन द्वारा वर्दियों की ग्रांट में हेर-फेर किया जा रहा है व इसी कारण बच्चों को पूरी वर्दी नहीं मिल पा रही। जो वर्दी दी गई है वह भी किसी काम की नहीं है व बच्चों को इसका कोई लाभ नहीं होगा। 
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!