साध्वी यौन शोषण मामला: पुलिस छावनी में तबदील पंचकूला, कोर्ट जाने वाले रास्ते सील

  • साध्वी यौन शोषण मामला: पुलिस छावनी में तबदील पंचकूला, कोर्ट जाने वाले रास्ते सील
You Are HerePunjab
Wednesday, August 23, 2017-11:40 AM

पंचकूला(चंदन): साध्वी यौन शोषण मामले में सी.बी.आई. पंचकूला कोर्ट की विशेष अदालत द्वारा 25 अगस्त को फैसला सुनाया जाना है। इसके लिए पुलिस, पैरामिलिट्री फोर्स, फायर डिपार्टमैंट, सी.आई.डी. के साथ-साथ जिला प्रशासन ने कमर कस ली है। पेशी से 3 दिन पहले ही पंचकूला शहर पुलिस छावनी में तबदील हो गया है। मंगलवार को 2 बार पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स की ओर से फ्लैग मार्च निकाला गया। कोर्ट परिसर को जाने वाले रास्तों को पुलिस ने पूरी तरह से सील कर दिया है।

 

मंगलवार शाम तक हजारों की संख्या में डेरा प्रेमी सैक्टर-23 स्थित नाम चर्चा घर के बाहर इक_ा हुए। सी.आई.डी. को विशेष तौर पर शहर में डेरा प्रेमियों पर नजर रखने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। आज पंचकूला की तरफ से आधा दर्जन से अधिक बसों व ट्रकों में जा रहे डेरा प्रेमियों को पुलिस ने रोका और वापस लौटाने की कोशिश की पर डेरा प्रेमी पैदल ही पंचकूला की तरफ निकल पड़े, जिन्हें पुलिस ने दोबारा बसों व ट्रकों में बैठाकर वापस भेजा। 


हंगामा करने वाले समर्थकों को स्टेडियम में रखेगी पुलिस
चंडीगढ़ (सुशील राज):  पेशी के दौरान समर्थकों द्वारा हंगामा करने की आशंका के चलते चंडीगढ़ प्रशासन ने सैक्टर-16 क्रिकेट स्टेडियम को अस्थायी जेल बना दिया है। इसे लेकर मंगलवार को गृह सचिव अनुराग अग्रवाल ने आदेश जारी किए। चंडीगढ़ में हंगामा करने वाले डेरा समर्थकों को चंडीगढ़ पुलिस गिरफ्तार कर सैक्टर-16 क्रिकेट स्टेडियम में रखेगी। वहीं डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के फैसले को लेकर चंडीगढ़ में सुरक्षा इंतजाम की जिम्मेदारी एस.पी. हैडक्वार्टर डा. ईश सिंघल को सौंपी गई है।


डेरा प्रेमियों का पंचकूला पहुंचने का सिलसिला जारी
डेरा प्रमुख की पंचकूला की सी.बी.आई. कोर्ट में पेश होने को अभी 3 दिन बाकी हैं लेकिन मंगलवार से पंजाब व हरियाणा के अलग-अलग जिलों से डेरा प्रेमी पंचकूला में काफी तादाद में पहुंचने शुरू हो गए हैं। कोई ट्रेन से तो कोई बस के जरिए पंचकूला पहुंच रहा है। 


बैरीकेड्स पड़े कम, जीरकपुर से लाए बैरीकेड्स किए इस्तेमाल
पंचकूला के बैलाविस्टा चौक से माजरी की तरफ जाने वाले रास्ते को पुलिस ने बैरीकेड्स लगाकर सील कर दिया। इस दौरान बैरीकेड्स कम पडऩे से जीरकपुर से लाए गए। पुलिस की नाकेबंदी से कोर्ट में तारीख भुगतने के लिए जाने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 

 

सुरक्षा के लिहाज से डंडे और छाते पुलिस ने किए जब्त
पैरामिलिट्री फोर्स और पुलिस के जवानों ने पंचकूला पहुंचे डेरा प्रेमियों के सामान की चैकिंग तो की ही साथ ही सुरक्षा के लिहाज से जिन डेरा प्रेमियों के हाथ में छाता या फिर डंडा था, उसे रखवा लिया गया। यही नहीं, नाकों के दौरान पुलिस ने गाडिय़ों की चैकिंग की। कई गाडिय़ों से डंडे और बेसबाल पुलिस ने बरामद किए। 


पठानकोट हमला: केंद्र ने भेजा था 6.35 करोड़ का बिल
पिछले साल पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकवादी हमले के समय भी पंजाब ने केंद्र से अद्र्धसैनिक बलों की 20 कंपनियां मांगी थीं। इन कंपनियों की 2 से 27 जनवरी तक की तैनाती के लिए बाद में केंद्र सरकार ने पंजाब को 6.35 करोड़ रुपए का बिल भेजा था। मगर पंजाब ने इसे राष्ट्रीय हमला करार देकर यह पैसा देने से मना कर दिया था।


2007 में भी की गई थी केंद्रीय सुरक्षा बलों की तैनाती
2007 में भी डेरा प्रमुख द्वारा सिखों के दसवें गुरु गोबिंद सिंह की तरह डेरे में श्रद्धालुओं को जाम-ए-इंसा पिलाने के कारण पंजाब और हरियाणा में कानून-व्यवस्था बिगडऩे लगी थी। तब भी केंद्रीय बलों की दोनों राज्यों में तैनाती की गई थी।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!