Subscribe Now!

कृषि घाटे से उभरने के लिए किसान सहायक धंधे अपनाएं: सिद्धू

  • कृषि घाटे से उभरने के लिए किसान सहायक धंधे अपनाएं: सिद्धू
You Are HerePunjab
Friday, February 09, 2018-8:24 PM

जालंधर: पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पराली जलाने से हुए घाटे से उबरने के लिए किसानों को कृषि सहायक धंधे अपनाने चाहिए। किसानों को जागरुक करने के लिए जालंधर जिले के परागपुर गांव में चल रहे ‘जट्ट एक्सपो’ मेले में विशेष तौर पर पहुंचे सिद्धू ने कहा की भविष्य में भी ऐसे मेलों का आयोजन किया जाना चाहिए ताकि किसानों को अपनी उपज बढ़ाने के लिए नई-नई तकनीकों के बारे में पता लग सके।

सिद्धू ने कहा कि पंजाब को खुशहाल करने के लिए प्रवासी भारतीयों का पंजाब में निवेश बहुत जरूरी है लेकिन पूर्व सरकार की गलत नीतियों के चलते प्रवासी भारतीयों का पंजाब सरकार के प्रति विश्वास उठ चुका था। उन्होंने कहा कि प्रवासियों को पंजाब में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार को प्रवासी प्रकोष्ठ का गठन किया जाना चाहिए। अकाली दल द्वारा शुरू किए गए ‘पोल-खोल’ अभियान पर सिद्धू ने कहा कि पिछले 10 महीनों में वह तीन चुनाव बुरी तरह से हार चुके हैं। 

उन्होंने कहा कि 24 फरवरी को लुधियाना में होने वाले निकाय चुनावों में भी अकाली दल की हार होगी। उन्होंने कहा कि अकाली दल राज्य की जनता को बताएं कि उन्होंने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गैंगस्टर रॉकी की बहन को अकाली दल में क्यों शामिल किया है। इस अवसर पर सिद्धू के साथ उनकी पत्नी एवं पंजाब स्वास्थ्य विभाग की पूर्व संसदीय सचिव ने कहा कि लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लड़कियों के स्कूल में केवल 50 वर्ष से ज्यादा उमर के अध्यापकों को तैनात करना अध्यापकों का अपमान है। 
 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में 10 हजार चिकित्सकों की भर्ती करने के फैसले का स्वागत करते हुए सिद्धू ने कहा कि पंजाब में चिकित्सकों की कमी को पूरा किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए इसे पर्यटन विभाग में शामिल किया जाना चाहिए। इस अवसर पर सिद्धू ने राज्य भर से आए छोटे किसानों का क्लस्टर बना कर खेती करने वाले और पराली जलाने वाले 15 किसानों को सम्मानित किया। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन