अनोखी शादी: गड्ढा खोदकर दूल्हा-दुल्हन ने एक-दूसरे को पहनाई वरमाला

  • अनोखी शादी: गड्ढा खोदकर दूल्हा-दुल्हन ने एक-दूसरे को पहनाई वरमाला
You Are HereNational
Monday, November 06, 2017-11:36 PM

जयपुर: जयपुर में पिछले एक महीने से चल रहा जमीन समाधि सत्याग्रह मंगलवार रात को एक अनूठी शादी के साथ समाप्त हो गया। समाधि स्थल पर ही एक किसान की बेटी की शादी की रस्म शुरू हुई और इसी के साथ सरकार की ओर से लिखित आदेश भी जारी कर दिए। इसके बाद बेटी की विदाई के साथ ही जमीन समाधि सत्याग्रह की समाप्ति की घोषणा कर दी गई।


हालांकि, बेटी की शादी जमीन समाधि के लिए खोदे गए गड्ढे में ही हुई। दूल्हा और दुल्हन की वरमाला की रस्म भी जमीन में ही हुई। दरअसल, राजधानी जयपुर में पिछले जमीन समाधि लिए सत्याग्रह करने वाले नींदड़ के किसानों को सरकार से वार्ता के बाद भी लिखित आश्वासन नहीं मिला था। दोनों पक्षों के बीच वार्ता के सफल रहने के बाद भी बात आगे नहीं बढ़ सकी और किसान समाधि से नहीं निकले, ऐसे में समाधि सत्याग्रह करने वाले किसान मनोहर कुमावत अपनी बेटी की शादी आंदोलन स्थल से ही करने को मजबूर थे।


नींदड़ के किसान मनोहर कुमावत की बेटी से शादी के लिए दूल्हा गोविंदगढ़ से बारात लेकर नींदड़ पहुंचा। शाम 6 बजे बारात नींदड़ गांव पहुंची और शादी की रस्में शुरू हुईं। रात 8 बजे फेरे होने के बाद ही आंंदोलन की समाप्ति की घोषणा कर दी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!