'तुम भज्जी नहीं हो' जिसे यह कहकर नाकारा था, आज वो ही कर रही है देश का नाम राैशन

  • 'तुम भज्जी नहीं हो' जिसे यह कहकर नाकारा था, आज वो ही कर रही है देश का नाम राैशन
You Are HerePunjab
Sunday, July 23, 2017-5:58 PM

चंडीगढ़ः महिला विश्व कप में नाबाद 171 रन बनाने वाली मोगा की हरमनप्रीत कौर ने देश तथा पंजाब का नाम रोशन किया है। उसको पुरस्कार देने का सिलसिला शुरू हो गया है। इसकी शुरूआत करते हुए बी.सी.सी.आई. ने टीम के प्रत्येक सदस्य को 50 लाख देने का ऐलान किया है। हर कोई उसकी कामयाबी पर नाज कर रहा है।

पहले ऐसा नहीं था। 2010-11 में हरमनप्रीत को नौकरी की सख्त जरूरत थी। वह तब करीब 2 साल से राष्ट्रीय टीम में खेल रही थी। नौकरी के लिए उसने पंजाब पुलिस में आवेदन भी किया था। तब उसे यह कहकर मना कर दिया गया कि पंजाब पुलिस में महिला क्रिकेटरों को नौकरी देने का कोई प्रावधान नहीं है। वहीं सीनियर अधिकारियों ने यह कहकर मजाक उड़ाया कि वह कोई हरभजन सिंह भज्जी नहीं है जिसे वह डी.एस.पी. की पोस्ट दे दें।

हरमनप्रीत के पिता ने कहा कि उनके बेटी ने  2009 में देख के लिए खिताब लाना शुरू कर दिया था। तब से लेकर आज तक एक भी राजनीतिक दल या उनके प्रतिनिधि ने कभी भी उनके घर का दौरा नहीं किया। किसी भी सरकार ने उनकी बेटी को नौकरी नहीं दी। सचिन तेंदुलकर की सिफारिश पर उनकी बेटी को 4 साल पहले पश्चिमी रेलवे में नौकरी मिली है। आज उसी बेटी ने पंजाब और देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You