पंजाब जब बुरे दौर में था उस समय अकालियों ने वालंटियर फोर्स क्यों नहीं बनाई : अमरेन्द्र

  • पंजाब जब बुरे दौर में था उस समय अकालियों ने वालंटियर फोर्स क्यों नहीं बनाई : अमरेन्द्र
You Are HerePunjab
Tuesday, December 12, 2017-5:05 PM

जालन्धर (धवन): पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने शिरोमणि अकाली दल नेतृत्व द्वारा राज्य में सवा लाख वालंटियर्स की फोर्स खड़ी करने के दिए गए बयान पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि वह अकालियों को 50 वर्षों से जानते हैं। वह केवल ड्रामा करने के लिए ऐसे गर्म बयान देते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह स्वयं अकाली दल में रहे हैं इसलिए प्रत्येक अकाली नेता को अच्छी तरह से जानते हैं। एक समय ऐसा भी था जब अकाली जत्थेदारों ने घग्गर दरिया भी पार नहीं किया था। उन्होंने कहा कि मीडिया के सामने सस्ती शौहरत के लिए अकाली नेतृत्व ऐसे बयान दे रहा है। उन्होंने सवाल किया कि अकाली नेतृत्व ने उस समय वालंटियर्स की फोर्स क्यों नहीं खड़ी की जब पंजाब आतंकवाद के बुरे दौर से गुजर रहा था। उस समय ऐसी वालंटियर फोर्स की जरूरत थी। 


कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि  अकाली दल द्वारा कार्पोरेशन चुनाव को देखते हुए ही लोकतंत्र को बचाने का मुद्दा उठा कर धरने दिए गए। उन्होंने कहा कि धरने देने से अकाली दल को कोई नहीं रोक रहा है परन्तु नैशनल हाईवे पर धरने देने की उनकी सरकार अनुमति नहीं देगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुखबीर बादल अब यह कह रहे हैं कि सरकार उन्हें गिरफ्तार करके दिखाए। मुख्यमंत्री ने सुखबीर से कहा कि उन्हें गिरफ्तार करने ही कौन जा रहा है परन्तु अगर अकाली नेताओं ने कानून को अपने हाथ में लिया व कानून की पालना न की तो वह अकालियों को छोड़ेंगे भी नहीं। 


मुख्यमंत्री ने कहा कि अकाली दल को चुनाव में अपनी हार सामने दिखाई दे रही है इसलिए हारने के बाद वह जनता से कहेंगे कि उनके साथ धक्का हुआ है जिस कारण वह चुनाव हार गए हैं। ऐसे बहाने मार कर अकाली अपना बचाव करने की कोशिशों में अभी से जुट गए हैं। कैप्टन ने कहा कि नैशनल हाईव दो दिन तक बंद रहने से पंजाब व देश के लगभग 3 लाख लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि अब अकाली गवर्नर को ज्ञापन देकर आए हैं परन्तु ऐसे ज्ञापनों से उनकी सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि अकालियों ने नैशनल हाईवे जाम करके पंजाब का नुक्सान तो कर ही दिया है। 
 
अकाली क्या पटियाला में अपनी सरकार के समय की बूथ कैपचरिंग को भूल गए हैं
मुख्यमंत्री अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने तो कुछ किया ही नहीं है। अकाली व्यर्थ में ही शोर मचा रहे हैं। वास्तव में अकालियों को वह दिन याद नहीं जब उनके कार्यकाल के दौरान पटियाला में सभी पोङ्क्षलग बूथों पर अकाली जत्थेदारों ने कब्जे कर लिए थे। कैप्टन ने कहा कि उनके सामने एक जत्थेदार ने लड़की से पूछा कि वह किसको वोट डालने जा रही है। जब लड़की ने कहा कि वह कांग्रेस को वोट डालेगी तो अकाली कार्यकर्ताओं ने उस लड़की को बालों से घसीट कर पोङ्क्षलग स्टेशन से बाहर धक्का दे दिया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि उस समय अकालियों को लोकतंत्र की हत्या याद नहीं आई थी। कैप्टन ने कहा कि पटियाला ही नहीं उस समय सभी कार्पोरेशनों में ऐसा ही हुआ था। कांग्रेसियों को तो उस समय नामांकन भरने की भी अनुमति नहीं दी जाती थी। इस तरह अकालियों की सोच हमेशा ही ऐसी रही है परन्तु 10 वर्षों के उनके कार्यकाल में हुए कामों को लोग भूलने वाले नहीं हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस तीनों शहरों में भारी बहुमत से कार्पोरेशन चुनाव में जीत हासिल कर लेगी। 
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन