Subscribe Now!

Valentine's Day पर किसी को मिला फूल तो किसी को मिली धूल

  • Valentine's Day पर किसी को मिला फूल तो किसी को मिली धूल
You Are HerePunjab
Wednesday, February 14, 2018-5:40 PM

गुरदासपुर(विनोद): आज वेलेंटाइनस--डे पर शहर मे चहल पहल रही तथा वेलेंटाइन दिवस केवल प्रेमियों द्वारा ही नहीं बल्कि दोस्तों ने भी एक दूसरे को मुबारकबाद देकर मनाया। इस बार शिवसेना, बजरंग दल सहित अन्य हिन्दू संगठनों का कही पर भी विरोध देखने को नहीं मिला। परंतु उसके बावजूद कुछ को तो फूल मिले जबकि अधिकतर नौजवानों को धूल से ही गुजारा करना पड़ा। 

प्राइवेट शिक्षा संस्थाओं के बाहर लड़के हाथों मे फूल लिए खड़े देखे गए, कुछ तो फूल देने वालों का तमाशा बनते भी देखने के लिए पंहुचे थे। पंरतु अधिकतर नौजवानों के फूल काम नहीं आए। इसी तरह बाहरी इलाकों में सड़कों पर भी कुछ हुल्लड़बाजों ने लड़कियों को जबरदस्ती फूल देने की कोशिश की। इस तरह के नौजवानों को भी कोई विशेष सफलता नहीं मिली। इसी तरह कुछ लड़कियों की तरफ से लड़कों को मूर्ख बनाते देखा गया। वेलेंटाइनस-डे कार्ड बेचने वाली दुकानों पर भी आज भीड़ कम ही देखने को मिली। क्योंकि वटसअप का प्रयोग अधिक होने के कारण यह कार्ड देने का प्रचलन कम रहा। कुछ नौजवान तो इन्ही दुकानों पर ही यह कार्ड एक दूसरे से बदलते देखे गए। लड़कियों की शिक्षा संस्थाओं के बाहर पुलिस ने विशेष प्रबंधक कर रखा था पर पुलिस ने किसी को कुछ नहं कहा।

क्या कहते है कार्ड बेचने वाले दुकानदार
वेलेंटाइनस--डे संबंधी कार्ड बेचने वाली दुकानों के मालिकों के अनुसार इस बार मोबाइल पर संदेश भेजने के प्रचलन के कारण बीते सालों की उपेक्षा कार्ड की बिक्री कम रही। परंतु फिर कार्ड बिक्री संतोष-जनक रही।

क्या कहते है अध्यापक
दूसरी और वेलेंटाइनस-दिवस संबंधी अध्यापकों से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि आज के नौजवान वर्ग ने इस दिवस का मतलब ही बदल दिया है। यह दिवस सभी को आपस में प्रेम भावना बनाए रखने का संदेश देता है पंरतु आज का नौजवान इसे अपने ही ढंग से मनाता है। अभिभाविकों को चाहिए कि इस दिवस पर अपने बच्चों को सही संस्कार दे तथा उन्हें आपसी भाईचारा मजबूत बनाने के लिए प्रेरित करें। अध्यापक वर्ग को भी इस संबंधी अपनी बनती भूमिका निभानी चाहिए। 

क्या कहते है शिवसेना नेता हरविन्द्र सोनी
शिवसेना बाल ठाकरे पंजाब के उप चेयरमैन हरविन्द्र सोनी के अनुसार 14 फरवरी का दिन कई तरह से मशहूर है। हमारे शहीद भगत सिंह, राजगुरू तथा सुखदेव को इस दिन फांसी की सजा सुनाई गई थी। शिवसेना वेलेंटाइनस दिवस के विरूद्व नहीं है, परंतु इसे मनाने के ढंग के विरूद्व है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन