विधानसभा हलका श्री आनंदपुर साहिब, लोगों को नहीं मिल पाया सरकारी स्कीमों का लाभ

  • विधानसभा हलका श्री आनंदपुर साहिब, लोगों को नहीं मिल पाया सरकारी स्कीमों का लाभ
You Are HerePunjab
Friday, December 16, 2016-10:05 AM

रुपनगर: सन् 1992 व 1997 में इस सीट पर कांग्रेस की स्थिति तीसरे नंबर पर रही जबकि सन् 1997 में तो विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जमानत तक जब्त हो गई। दोनों दफा कम्युनिस्ट पार्टी दूसरे पायदान पर रही। 2002 में जाकर कांग्रेस की स्थिति सुधरी।

वोटर 1,71,355

जातीय समीकरण
एस.सी./बी.सी. 25% , सिख  25%,  हिंदू  50%

मुख्य मुद्दा
नीम पहाड़ी क्षेत्र से घिरा श्री आनंदपुर साहिब विधानसभा का यह इलाका पंजाब के आखिरी क्षेत्रों में से एक है। केंद्र सरकार की रियायतों पर टिका यह क्षेत्र भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड व एन.एफ.एल. जैसे प्रोजैक्टों पर ही निर्भर है जिसके कारण यहां से जीत हासिल करने वाला उम्मीदवार अगर केंद्र में बनी सरकार से जुड़े दल से संबंधित नहीं तो यकीनन कोई भी बड़ा लाभ यहां के लोगों को नहीं मिल सकता। हर काम के लिए केंद्र पर निर्भर रहने के कारण प्रदेश सरकार की स्कीमें यहां कम लागू हो पाती हैं।

हलका विधायक का दावा
श्री आनंदपुर साहिब विधानसभा क्षेत्र में राजनीति की लम्बी पारी खेल चुके विधायक मदन मोहन मित्तल का दावा है कि उन्होंने कई ऐसे नए प्रोजैक्ट तैयार करवाएं हैं जिनके शुरू होने के साथ-साथ खत्म होने के बाद तक का लाभ इस इलाके को सालों-साल मिलता रहेगा। इन प्रोजैक्टों में खासतौर से 2 राज्यों हिमाचल व पंजाब को जोडऩे वाला नंगल बांध पर बनने वाला 250 करोड़ की लागत से फोर लेन फ्लाईओवर, मोदी सरकार की मेक इन इंडिया स्कीम में ली गई एन.एफ.एल. में 5500 करोड़ रुपए का नया विस्तार (एक्सपैंशन) व स्वां चैनेलाइजेशन को लेकर स्वां नदी के किनारों को 284 करोड़ रुपए लगाकर बंजर भूमि को उपजाऊ बनाना है। मित्तल द्वारा यह दावा किया जाता है कि शिक्षा, पानी, सड़कें व रोजगार के साधन पूरे करने का संकल्प जारी रखा जाएगा।

वायदे जो किए
चंगर इलाके में पानी व सड़कों के साथ-साथ गलियों को बनवाने की व्यवस्था।
नंगल में 50 बैड के सरकारी अस्पताल का निर्माण।
स्कूलों को अपग्रेड किया, इमारतों को नया रूप देना।
नंगल के साथ लगते 6 गांवों को व कीरतपुर साहिब के साथ लगते 5 गांवों को शहर में शामिल करवाना।

वायदे जो निभाए
स्वां चैनेलाइजेशन को मंजूर करवाया गया।
लिफ्ट इरीगेशन स्कीम को पास करवाया गया।
श्री आनंदपुर साहिब से अमृतसर के बीच रेलगाड़ी  शुरू करवाई।
नंगल आई.टी.आई. में इमारतों का निर्माण। 

लोगों ने ऐसी जताई प्रतिक्रिया
फ्लाईओवर बनने से शहर के कारोबार को दम मिलेगा। इसके लिए खास जरूरत है कि उम्मीदवार की पृष्ठ भूमि क्या हो। नए लोगों को मौका देने की चर्चा तो है लेकिन क्या वे विधायक बनने के बाद लोगों की मांग को मजबूती से उठा पाएंगे।     —रजनीश वोहरा   


बदलाव जरूरी है, अगर बार-बार किसी एक को ही मौका मिलता रहेगा तो यकीनन विकास की गति वह दम नहीं दिखा पाएगी जिसकी आशा लोग करते हैं। केवल कह देने से काम हो गया, यह सच नहीं, जनता सब जानती है।    —उमाकांत शर्मा

 

 टैक्नोलॉजी की सूझबूझ रखने वाले प्रतिनिधि को ही मौका दिया जाए। युवाओं में जोश ज्यादा है, अगर उन्हें इस तरह की जिम्मेदारी दी जाएगी तो नई पीढ़ी की दशा व दिशा को नया रूप दिया जा सकता है।     —प्रदीप सोनी


विकास का कोई पैमाना नहीं होता। विपक्ष में
बैठे लोगों के लिए कोई ऐसा चश्मा नहीं बना जिसे देकर यह समझाया जा सके कि देखिए क्या अब भी कुछ और करने की जरूरत है।     —संदीप मित्तल

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!