मेयर का वेतन है रु46,000... तो... कौंसलर को मिलते हैं रु17,000 महीना

  • मेयर का वेतन है रु46,000... तो... कौंसलर को मिलते हैं रु17,000 महीना
You Are HerePunjab
Thursday, December 14, 2017-9:42 AM

जालंधर(खुराना): इन दिनों पंजाब के 3 बड़े शहरों जालंधर, अमृतसर और पटियाला में नगर निगम चुनावों का दौर अंतिम चरण में पहुंच चुका है और मतदान को कुछ ही दिन बाकी बचे हैं। ऐसे में इन चुनावों हेतु खड़े उम्मीदवारों के दिलों की धड़कनें बढ़ गई हैं और कइयों ने तो मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर व कौंसलर पद पर आसीन होने के सपने भी लेने शुरू कर दिए हैं।  बहुत से पाठकों को शायद पता नहीं होगा कि नगर निगम के मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर, डिप्टी मेयर तथा पार्षदों को कितना मासिक भत्ता मिलता है। पेश है इसका विवरण-

मेयर 
बतौर पार्षद भत्ता    रु15,000 
मान भत्ता    रु30,000 
रैजीडैंस अलाऊंस    रु1000 
कुल मासिक वेतन    रु46,000 


सी. डिप्टी मेयर 
बतौर पार्षद भत्ता    रु15,000 
टैलीफोन भत्ता    रु2000 
मान भत्ता    रु24,000
कुल मासिक वेतन    रु41,000 


डिप्टी मेयर 
बतौर पार्षद भत्ता    रु15,000 
टैलीफोन भत्ता    रु2000 
मान भत्ता    रु18,750 
कुल मासिक वेतन    रु35,750

कौंसलर 
बतौर पार्षद भत्ता    रु15,000 
टैलीफोन भत्ता    रु2000 
कुल मासिक वेतन    रु17,000 

वार्ड बढऩे से निगमों पर बढ़ेगा आर्थिक बोझ 
पंजाब सरकार ने हाल ही में सभी नगर निगमों की नई वार्डबंदी की है जिसके तहत वार्डों की संख्या बढ़ाई गई है। जालंधर नगर निगम के वार्डों को 60 से बढ़ाकर 80 किया गया है। 20 नए पार्षद जुड़ जाने से निगम पर आॢथक बोझ भी बढ़ेगा।  गौरतलब है कि एक पार्षद को मासिक 17,000 रुपए निगम से मिलते हैं। 20 पार्षदों को मासिक वेतन के रूप में निगम को 3.40 लाख रुपए हर महीने और देने होंगे। इस प्रकार एक साल में यह बोझ 40 लाख रुपए से ज्यादा बढ़ जाएगा। नगर निगमों के सामने पहले ही अपने कर्मचारियों को वेतन देने का संकट गहराया हुआ है। ऐसे में पार्षदों की संख्या बढऩे से बढ़ा हुआ बोझ निगमों के लिए और समस्या का कारण बनेगा।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन