'देश का राष्ट्रपति RSS की सोच रखने वाला नहीं होना चाहिए'

  • 'देश का राष्ट्रपति RSS की सोच रखने वाला नहीं होना चाहिए'
You Are HerePunjab
Monday, June 19, 2017-3:51 PM

फिल्लौर (भटियारा): आर.एस.एस. की सोच रखने वाले किसी नेता को देश का राष्ट्रपति बनाना देश के लिए घातक साबित होगा। इन विचारों का प्रकटावा वल्र्ड कौंसिल ऑफ आरिया समाज के मुखी स्वामी अग्निवेश ने फिल्लौर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहे। 

अग्निवेश फिल्लौर में दलित दासता विरोधी आंदोलन के मुखी जय सिंह की बेटी के अंतरजातीय समागम में जहां हिस्सा लेने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि देश का राष्ट्रपति देश की मानवता के अधिकारों को ध्यान में रखकर काम करने वाला होना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश की मोदी सरकार ने किसानों के कर्जे माफी के लिए कोई कदम नहीं उठाया जबकि देश के कार्पोरेट घरानों के कर्जे माफ किए जा रहे हैं।  शिक्षा के विषय में बात करते हुए स्वामी जी ने कहा कि देश में सरकार नौकरियां कर रहे आला अधिकारियों व कर्मचारियों ने कभी भी आज तक अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में नहीं पढ़ाया। नौकरी तो वह सरकार की करते हैं पर अपने बज्जों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाना अच्छा नही समझते। 

अगर देश में सभी सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों के बज्जे सरकारी स्कूलों में पढ़ें तो इससे समानता दिखाई देगी और निजी स्कूलों की मार से भी बचा जा सकता है। 
स्वामी जी ने बताया कि कांग्रेस के राज्य सभा के सदस्य शमशेर दूलो के साथ उन्होंने बातचीत करके यह निर्णय लिया है कि आने वाले दिनों में मजदूरों, किसानों व दलितों के मुद्दों पर सांसद सदस्यों की एक मीटिंग बुलाई जाएगी व उसमें बड़े फैसले लिए जाएंगे।  

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You