पंजाबी जुत्ती से हुई पार्क में जलाई गई लड़की की पहचान

  • पंजाबी जुत्ती से हुई पार्क में जलाई गई लड़की की पहचान
You Are HerePunjab
Friday, December 08, 2017-4:27 AM

जालंधर(प्रीत): हत्या कर स्पोर्ट्स एंड सर्जीकल काम्पलैक्स के पार्क में जलाई गई युवती की पहचान पंजाबी जुत्ती से हो गई है। मृतका कविता के शव की शिनाख्त उसकी मां बबली निवासी दीप नगर जालंधर कैंट ने की। खुलासा हुआ है कि कविता 3 दिन पहले अपने मामा के सांढू के बेटे विशाल निवासी फिल्लौर के साथ घर से भागी थी। परिवार वाले उसको तलाश रहे थे। 

उल्लेखनीय है कि बीते दिन स्पोर्ट्स एडं सर्जीकल काम्पलैक्स स्थित पार्क में युवती का जला हुआ शव मिला। पुलिस ने मृतका की शिनाख्त करवाने के लिए बीते दिन हर संभव प्रयास किया लेकिन शव 90 प्रतिशत जला होने के कारण उसको सफलता नहीं मिली। वीरवार सुबह अखबारों में खबरें छपने के पश्चात जालंधर कैंट के दीप नगर निवासी महिला बबली सिविल अस्पताल पहुंची। घटनास्थल से कब्जे में ली गई युवती की पंजाबी जुत्ती को देख कर बबली ने खुलासा किया कि शव उसकी बेटी कविता का है। 

मृतका की शिनाख्त होने का पता चलते ही ए.डी.सी.पी. सिटी-2 सुडरविजी, ए.सी.पी. बलविन्द्र सिंह, थाना बस्ती बावा खेल के प्रभारी सुखविन्द्र सिंह तुरंत मौके पर पहुंचे और जांच शुरू की। बबली ने पुलिस को बताया कि कविता 3 दिन पहले अपने मामा अश्विनी के सांढू के बेटे विशाल निवासी फिल्लौर के साथ भाग गई थी। दोनों के मोबाइल भी बन्द थे। मामला घरेलू होने के कारण वे अपने स्तर पर दोनों की तलाश कर रहे थे। वीरवार उन्होंने पुलिस को सूचना देनी थी कि उक्त घटना का पता चल गया।

मामा के लड़के के विवाह के लिए खरीदी थी पंजाबी जुत्ती
बबली पहले अपने रिश्तेदारों के साथ सिविल अस्पताल पहुंची और फिर थाना बस्ती बावा खेल। बातचीत के दौरान बबली का रो-रो कर बुरा हाल हो रहा था। बबली ने बताया कि कविता ने मामे के लड़के के  विवाह के लिए उसने पंजाबी जुत्ती खरीदी थी । क्या पता था कि यह जुत्ती ही उसकी पहचान बनेगी। बबली ने बताया कि 27 नवम्बर को उसके भाई अश्विनी के बेटे की शादी थी। चूंकि विशाल अश्विनी के सांढू बिल्ला निवासी फिल्लौर का बेटा है तो विशाल भी वहां आया हुआ था। विवाह कार्यक्रम के दौरान ही विशाल और कविता दोनों आपस में मिले। क्या पता था कि दोनों के मन में क्या चल रहा है।

कविता के भागने के बाद लवला कह गया था तलाक लेने की बात
बबली ने बताया कि कविता की शादी करीब 5 साल पहले लवला निवासी कन्नियावाली गढ़ा के साथ हुई थी। लवला स्कूल बस का चालक है। दोनों में विवाद ही रहता था। गृहक्लेश के कारण कुछ दिन पहले कविता अपने बच्ची खुशी को लेकर दीप नगर में उसके पास आ गई। बबली के मुताबिक वह खुद अपने भाई अश्विनी के साथ रहती है तथा मेहनत मजदूरी कर पेट पालती है। बबली के मुताबिक जब कविता घर से चली गई तो लवला भी उनके घर आकर उससे तलाक लेने की बात कहगया था। 

दुधमुंही बच्ची को सोते छोड़ भागी थी कविता
मृतका कविता के भाई रविन्द्र ने बताया कि 3 दिन पहले वह सुबह जागा तो बच्ची खुशी रो रही थी। उसने समझा कि शायद कविता यहीं होगी। उसने खुद बच्ची को उठाया और दूध पिलाया लेकिन बाद में उसे पता चला कि कविता घर पर नहीं है। जब उन्होंने तलाश शुरू की तो कविता और विशाल दोनों के मोबाइल भी बन्द मिले।

झगड़ा कर भगाया पर वह कहता था-  ‘मैंने उसे लेकर ही जाना है’
मृतका कविता के भाई रविन्द्र कुमार ने बताया कि विवाह के दौरान भी कविता विशाल के साथ कहीं गई थी। घर पर सभी को पता चल गया। कविता वापस आई तो विशाल को रिश्तेदारों ने भगा दिया, लेकिन अगले दिन विशाल फिर आ गया। रविन्द्र ने बताया कि उसके मामा ने उसे भगाया भी लेकिन विशाल यही कहता था - ‘मैंने उसे लेकर ही जाना है।’ 

ए.सी.पी. ने जताई अनभिज्ञता, थाना प्रभारी ने बताया जांच विचाराधीन
देर शाम एक ओर जहां ए.सी.पी. वैस्ट बलजिन्द्र सिंह ने हत्याकांड के मुख्य सुराग संबंधी जानकारी होने की अनभिज्ञता जताई, वहीं थाना प्रभारी सुखविन्द्र सिंह ने जांच विचाराधीन होने की बात कही। थाना प्रभारी ने यहां तक कहा कि पुलिस अस्पताल भेजी गई है व जांच की जा रही है कि विशाल वहां कब और कैसे एडमिट हुआ।


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!