गैंगस्टरों की दहशत में जिंदगी बसर कर रहा है नूरपुरबेदी इलाका

  • गैंगस्टरों की दहशत में जिंदगी बसर कर रहा है नूरपुरबेदी इलाका
You Are HerePunjab
Friday, April 21, 2017-4:41 PM

रूपनगर (विजय): जिला रूपनगर के 137 गांवों का शांतिपूर्ण क्षेत्र नूरपुरबेदी कभी सद्भावना, भाईचारक सांझ, अमन तथा इंसाफपरस्ती का प्रतीक समझा जाता था। पंजाब के काले दौर में भी यह क्षेत्र अमन-शांति के रूप में जाना जाता था तथा यह काफी हद तक पंजाब के 10 सालों के दुर्दांत से बचा रहा, लेकिन गत कुछ वर्षों से यह क्षेत्र गैंगस्टरों की दहशत में जिंदगी बसर कर रहा है। गैंगस्टरों के दो धड़ों की आपसी दुश्मनी जहां इलाके की फिजा में जहर घोल रही है, वहीं निजी रंजिशबाजी के शिकार नौजवानों को धड़ेबंदी में बांट रही है। 

ग्रुप का सरगना बना दिलप्रीत बाबा
इस गुटबंदी में केसर सिंह मल्ली के गुट का मुख्य सरगना नूरपुरबेदी क्षेत्र के गांव ढहा का निवासी दिलप्रीत सिंह उर्फ बाबा मुख्य तौर पर उभर कर सामने आया। दिलप्रीत बाबा के खिलाफ विभिन्न पुलिस स्टेशनों में कुल 18 केस दर्ज हैं परंतु वह अधिक सुर्खियों में उस समय आया जब रूपनगर अदालत में पेशी भुगतने आए दिलप्रीत को होशियारपुर पुलिस से उसके साथी नाटकीय ढंग से (काठगढ़, नवांशहर) छुड़वा कर ले गए। उसके बाद दिलप्रीत की सरगर्मियां इस क्षेत्र में लगातार जारी हैं। उसके द्वारा 7 अप्रैल 2017 को गांव ब्राह्मण माजरा के निवासी देसराज मल्ल की जहां उसके घर जाकर गोलियां मार कर हत्या की गई, वहीं 60 घंटों के बाद 9 अप्रैल को सैक्टर 38 के गुरुद्वारा संतसर साहिब में होशियारपुर क्षेत्र के सरपंच सतनाम सिंह की गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। इस घटनाक्रम के बाद दिलप्रीत बाबा नूरपुरबेदी क्षेत्र में निरंतर सरगर्म बताया जाता है तथा उसके विरोधियों में भी सनसनी का आलम पाया जा रहा है। 

केसर कांड से शुरू हुई गैंगस्टर कार्रवाई 
इस इलाके में गैंगस्टर गुटबाजी का प्रारंभ 25 अप्रैल 2009 को उस समय हुआ जब इस क्षेत्र के सरगर्म नौजवान केसर सिंह मल्ली को विरोधी गुट ने गोलियां मार कर मौत के घाट उतार दिया। भले ही अदालत द्वारा इस कांड में नामजद आरोपियों को सजा का ऐलान भी कर दिया गया पर इसके बावजूद गुटबाजी खत्म नहीं हुई तथा विभिन्न समय इन गुटों की झड़प निरंतर झगड़ों को जन्म देती रही है तथा आज तक इस लड़ाई का असर जारी है। 

नूरपुरबेदी में किए कड़े सुरक्षा प्रबंध  
गैंगस्टर की सरगर्मियों के खिलाफ पुलिस प्रशासन द्वारा व्यापक सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार आज बड़ी संख्या में बाहर से पुलिस मंगवा कर नूरपुरबेदी क्षेत्र को & जोनों में बांटा गया है तथा सार्वजनिक स्थानों पर 24 घंटे नाकाबंदी को यकीनी बनाया गया है। इस दौरान पुलिस द्वारा नूरपुरबेदी में एक विशेष कंट्रोल रूम भी स्थापित किया गया। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!