किसानों-मजदूरों ने उड़ाए पावर कॉम के फ्यूज

  • किसानों-मजदूरों ने उड़ाए पावर कॉम के फ्यूज
You Are HerePunjab
Sunday, August 13, 2017-12:36 PM

निहाल सिंह वाला/बिलासपुर (बावा/जगसीर): गांव रामा में डिफाल्टर मजदूरों के बिजली मीटर उतारने आई पावर कॉम सब-डिवीजन बिलासपुर की टीम का विभिन्न जत्थेबंदियों के नेतृत्व में किसानों, मजदूरों द्वारा जबरदस्त घेराव किया गया तथा पंजाब सरकार के खिलाफ जम कर नारेबाजी की गई। जानकारी के अनुसार सब-डिवीजन बिलासपुर की पंजाब राज्य पावर कार्पोरेशन की एक टीम एस.डी.ओ. महेन्द्र सिंह भोला के नेतृत्व में डिफाल्टर मजदूरों के बिजली मीटर उखाडऩे के लिए पहुंची थी।

इस टीम द्वारा 5 मजदूरों के बिजली मीटर उतार लिए गए, जिसकी भनक  जत्थेबंदियों को लगने पर भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां के ब्लॉक अध्यक्ष गुरचरण सिंह रामा, इकाई अध्यक्ष हरनेक सिंह, रंजीत सिंह, तरसेम रामा, ग्रामीण मजदूर यूनियन के नेता भरपूर सिंह रामा, नौजवान भारत सभा के नेता कर्म रामा व निर्मल सिंह हिम्मतपुरा के नेतृत्व में किसान, मजदूर बड़ी संख्या में घटनास्थल पर पहुंचे तथा पावर कॉम की टीम का घेराव करना शुरू कर दिया। लोगों ने पंजाब सरकार व पंजाब राज्य पावर कार्पोरेशन के खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी। इस दौरान हलका निहाल सिंह वाला के विधायक भी पहुंच गए, जिन्होंने मजदूरों, किसानों के संघर्ष का समर्थन करते हुए पंजाब सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों की निंदा की। 

इस अवसर पर अध्यक्ष गुरचरण सिंह रामा, भरपूर सिंह रामा, कर्म रामा आदि ने कहा कि सरकार पूंजीपति वर्ग को और सबसिडी दे रही है तथा किसानों, मजदूरों को बिना वजह परेशान कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि एक तरफ पूंजीपतियों द्वारा बड़ी इंडस्ट्रियों में बड़े स्तर पर बिजली चोरी की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ मजदूरों, किसानों व आम लोगों से धक्केशाही की जा रही है। उन्होंने कहा कि मजदूरों को 400 यूनिट बिजली माफ करने के बावजूद उनको जलील किया जा रहा है।

इस बारे में उनकी पावर कॉम के अधिकारियों से हुई बैठक में उन्होंने वायदा किया था कि मजदूरों के बिजली मीटर नहीं उतारे जाएंगे। सरकार की इस लोक विरोधी नीति का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।  इस मौके पर पावर कॉम के अधिकारियों द्वारा इसकी सूचना एक्सियन तथा पुलिस प्रशासन को दी गई। सूचना मिलते ही थाना बधनी कलां के थानेदार किक्कर सिंह पुलिस पार्टी सहित मौके पर पहुंचे तथा उन्होंने प्रदर्शनकारियों से बातचीत की। लोगों की मांग पर पावर कॉम के अधिकारियों ने उखाड़े हुए बिजली मीटर वापस करने पर ही लोगों ने पावर कॉम के अधिकारियों का घेराव खत्म किया।

क्या कहना है एस.डी.ओ. का
इस संबंधी एस.डी.ओ. बिलासपुर महेन्द्र सिंह भोला ने कहा कि कुछ मजदूरों द्वारा अपना रिकार्ड दफ्तर में पेश नहीं किया गया जो कि बिजली माफी की स्कीम के घेरे से बाहर हैं। उक्त मजदूरों की ओर पावर कॉम का 50-50 हजार रुपए का बकाया खड़ा है। उन्होंने कहा कि उक्त मजदूरों को बार-बार बिल भरने की हिदायतें देने पर भी उन्होंने बकाया राशि नहीं भरी, जिसके कारण उनको यह कदम उठाना पड़ा।

क्या कहना है हलका विधायक का
निहाल सिंह वाला के विधायक मंजीत सिंह बिलासपुर ने कहा कि किसान, मजदूर पहले ही कर्ज में होने के कारण खुदकुशियां कर रहा है। कैप्टन सरकार ने चुनाव से पहले वोट लेने के लिए कई वायदे किए थे, लेकिन उनको लागू करने की बजाय सरकार लोगों को मिलती पहली सहूलियतें छीनने के रास्ते पर चल पड़ी है। उन्होंने कहा कि मजदूरों, किसानों के हक में संघर्ष का समर्थन किया जाएगा तथा सरकार की धक्केशाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!