ट्रैक पर सुधरने का नाम नहीं ले रहे हालात

  • ट्रैक पर सुधरने का नाम नहीं ले रहे हालात
You Are HerePunjab
Wednesday, November 29, 2017-10:51 AM

जालंधर(अमित): पंजाब रोडवेज वर्कशॉप में खोला गया आधुनिक ऑटोमैटिव ड्राइविंग टैस्ट ट्रैक अपने शुरूआती दौर से ही विवादों में घिरा हुआ है। इतना समय बीतने के पश्चात भी आम जनता को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध न करवा पाने के कारण अक्सर यहां आने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और ट्रैक पर हालात सुधरने का नाम ही नहीं ले रहे। 

सारा दिन नहीं हो सका एक भी ऑनलाइन डी.एल. आवेदन का ट्रैक टैस्ट
मंगलवार को ऑनलाइन डी.एल. आवेदनों के ट्रैक टैस्ट नहीं हो सके और ऑफलाइन आवेदनों की फीस नहीं जमा हो सकी। प्राप्त जानकारी के अनुसार ट्रैक टैस्ट फीस काटी तो जा रही थी, मगर वह सही ढंग से अपलोड नहीं हो पा रही थी, जिसकी वजह से पूरा दिन एक भी ऑनलाइन डी.एल. आवेदन का ट्रैक टैस्ट ही नहीं हो सका। इसके पीछे विभाग की वैबसाइट ‘पंजाबट्रांसपोर्ट.ओआरजी.’ में आई किसी तकनीकी खराबी को कारण बताया जा रहा है। इसी तरह  सारथी सॉफ्टवेयर की ई-एक्सी फाइल न आने की वजह से पूरा दिन एक भी ऑफलाइन आवेदन की फीस नहीं काटी जा सकी और 
ट्रैक पर उक्त कामकाज सारा दिन ठप्प रहा। 

बुधवार को भी बाधित रह सकता है कामकाज
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को भी यह कामकाज बाधित रह सकता है, क्योंकि फाल्ट केवल जालंधर में ही है और बाकी जगह कामकाज सामान्य रूप से जारी है। निजी कंपनी द्वारा फाल्ट को ठीक करवाने के लिए प्रयास किया जा रहा है, मगर यह कब तक ठीक होगा इसको लेकर स्थिति साफ नहीं है। 
पीछे से आई है समस्या, जल्दी होगी ठीक : अंकित
निजी कंपनी के इंचार्ज अंकित ने बताया कि ऑनलाइन ट्रैक टैस्ट फीस जमा करने वाली वैबसाइट में कोई तकनीकी खराबी आई है, जिसको लेकर हैड आफिस को सूचित किया जा चुका है। जल्दी ही समस्या का समाधान हो जाएगा। 

 स्टाफ नहीं दे सका कोई संतोषजनक जवाब
सुबह जैसे ही कामकाज शुरू हुआ, नई बिल्डिंग के अंदर बने ट्रैक टैस्ट फीस काऊंटर पर ऑनलाइन आवेदनों की फीस ही नहीं जमा हो पाई। करीब 1 घंटा लाइन में खड़े होने के पश्चात जनता ने स्टाफ से पूछा कि आखिर कब उनकी फीस जमा होगी तो जवाब मिला कि वैबसाइट बंद पड़ी हुई है, इसलिए फीस रिसीव करने वाला कम्प्यूटर काम नहीं कर रहा है, मगर कम्प्यूटर कब तक ठीक होगा इसको लेकर किसी ने कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया।  इसी तरह से ट्रैक पर ऑफलाइन आवेदनों की फीस जमा ही नहीं हो पाई और सारा दिन जनता बुरी तरह से त्रस्त हुई। लोगों ने सरकार और परिवहन विभाग को कोसा कि अगर ट्रैक पर कामकाज सुचारू ढंग से चल ही नहीं सकता तो फिर लाखों रुपए खर्च करने का क्या फायदा। कुछ देर बाद स्टाफ ने वैबसाइट बंद होने को लेकर नोटिस लगा दिया ताकि जनता को सूचित किया जा सके। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!