दर्जा-4 मुलाजिम के साथ गलत शब्दावली के प्रयोग पर मचा बवाल

  • दर्जा-4 मुलाजिम के साथ गलत शब्दावली के प्रयोग पर मचा बवाल
You Are HerePunjab
Tuesday, September 12, 2017-1:28 PM

होशियारपुर (जैन): सिविल अस्पताल में तैनात एक दर्जा-4 कर्मचारी कुलदीप राज, जोकि स्वास्थ्य विभाग की दर्जा-4 कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष भी हैं, के चरित्र को लेकर गलत शब्दावली का इस्तेमाल करना एस.एम.ओ. डा. अवनीश सूद को महंगा पड़ा। इस गंभीर मुद्दे को लेकर कुलदीप राज के पारिवारिक सदस्य भी आज सिविल अस्पताल पहुंचे तथा माहौल बेहद गर्मा गया।
 

क्या है मामला
बातचीत के दौरान कुलदीप राज ने बताया कि उम्र ज्यादा हो जाने के कारण मेरी नजर कमजोर हो गई है। इसलिए मैं नाइट ड्यूटी नहीं करता। उन्होंने कहा कि एस.एम.ओ. डा. अवनीश सूद मेरी नाइट ड्यूटी लगाने के लिए लगातार प्रताडि़त कर रहे हैं तथा इसी एवज में उन्होंने मेरे चरित्र को लेकर मनघड़न्त आरोप भी लगा डाले।

कुलदीप राज का कहना है कि मैं रिटायरमैंट पर बैठा हूं। इस अवस्था में भद्दी शब्दावली का इस्तेमाल कर मुझ पर जो मनघड़न्त आरोप लगाए गए हैं उससे मेरी छवि को खराब करने की कोशिश की गई है। इसी दौरान अस्पताल पहुंचे कुलदीप राज के लड़कों ने कहा कि उनके पिता पिछले कई दिन से मानसिक तनाव में चल रहे हैं तथा इसी कारण वह कुछ खा-पी भी नहीं रहे। उन्होंने चेतावनी दी कि इन परिस्थितियों में अगर हमारे पिता को कुछ हो गया तो सारी जिम्मेदारी इस अधिकारी की होगी।

इसी दौरान अस्पताल के तमाम डाक्टर, मैडीकल व पैरा-मैडीकल स्टाफ भी कुलदीप राज के पक्ष में एकत्रित हो गया तथा सिविल सर्जन डा. रेणु सूद से भेंट कर उन्हें सारी व्यथा सुनाई। सिविल सर्जन के बुलावे पर एस.एम.ओ. डा. अवनीश सूद भी वहां पहुंच गए तथा आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया।

डा. सूद के कमरे से उतरवाया सी.सी.टी.वी. कंट्रोल
इसी दौरान सिविल अस्पताल के डाक्टरों व अन्य स्टाफ ने सिविल सर्जन से शिकायत की कि एस.एम.ओ. इंचार्ज के कमरे में सी.सी.टी.वी. कैमरे की जो कंट्रोल एल.ई.डी. लगनी चाहिए उस पर डा. अवनीश सूद का कब्जा है तथा सी.सी.टी.वी. की फुटेज को लेकर वह सारे स्टाफ को प्रताडि़त कर रहे हैं। सिविल सर्जन ने इसका कड़ा नोटिस लेते हुए तत्काल प्रभाव से यह एल.ई.डी. डा. सूद के कमरे से उतरवाने के आदेश दिए, जिसको अमल में लाते हुए फौरी तौर पर एस.एम.ओ. इंचार्ज डा. ओ.पी. गोजरा के कमरे में शिफ्ट कर दिया गया।

इस संबंध में डा. अवनीश सूद का कहना है कि कुलदीप राज नाइट ड्यूटी करने को तैयार नहीं थे। मैंने तो सिर्फ यह मुद्दा उठाया था। डा. सूद ने बताया कि सिविल अस्पताल में तैनात डा. जसविन्द्र के कमरे में अवैध तौर पर इंटरनैट कनैक्शन चल रहा था जिसकी मैंने सिविल सर्जन को लिखित शिकायत की थी। सिविल सर्जन द्वारा आज यह इंटरनैट कनैक्शन भी हटवा दिया गया है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!