मामूली बात को लेकर आपस में भिड़े 2 कांग्रेसी गुट

You Are HereLatest News
Sunday, January 07, 2018-12:53 PM

पठानकोट(शारदा): सब्जी मंडी की सफाई को लेकर मामूली तकरार ने दोपहर उस समय बड़े झगड़े का रूप धारण कर लिया जब राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के 2 गुट आपस में बुरी तरह भिड़ गए। उपरोक्त वाकया मोहल्ला मॉडल टाऊन के मुख्य चौक का है जहां दोनों गुटों में खूनी भिड़ंत हुई।

इसमें दोनों पक्षों के करीब 4 लोगों के घायल होने की सूचना है। घायलों में कांग्रेस पार्टी का मौजूदा पार्षद रोहित स्याल भी है। कांग्रेस पार्टी के दोनों ही परस्पर विरोधी गुट इस खूनी भिड़ंत के बाद एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं। वहीं जानकारों का मानना है कि इस भिड़ंत के पीछे राजनीतिक रंजिश भी हो सकती है जिसका अंतत: खौफनाक परिणाम निकला है। दोनों ही गुटों के घायलों को उपचार हेतु सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। 

मुझे वार्ड में विकास कार्य नहीं करने दे रहा बेदी परिवार : पार्षद रोहित स्याल

कांग्रेसी पार्षद रोहित स्याल, जिसने आरोप लगाया कि बेदी परिवार ने उसे भी बुरी तरह मारपीट कर घायल किया है, ने कहा कि निकाय चुनावों में जनता ने उन्हें वार्ड पार्षद चुनकर निगम में विकास कार्य करवाने के लिए भेजा है परन्तु बेदी परिवार को यह लंबे समय से रास नहीं आ रहा है। वार्ड के जिस क्षेत्र में भी विकास कार्य करवाते हैं, उसमें विरोधी परिवार कोई न कोई अड़ंगा डालने का हरसंभव प्रयास करता है।

उन्होंने कहा कि उसे बेदी परिवार सोशल मीडिया पर कोई चित्र या वीडियो वायरल करके जलील कर रहा है। स्याल ने पक्ष रखते हुए कहा कि बेदी परिवार उस पर जो आरोप लगा रहा है वो बुनियाद है। पार्षद स्याल ने आरोप लगाया कि निकाय चुनावों में उसने बेदी परिवार के सदस्य सुरेन्द्र बेदी को करारी हार दी थी जो इस परिवार को अभी तक पच नहीं पा रही है। उनके साथ मारपीट संभवत: बेदी परिवार की चुनावी हार की बौखलाहट ही बाहर निकलकर आई है। 

बेदी परिवार पर हमला किसके इशारे पर हुआ, जांच होनी चाहिए : जंगी
दूसरी ओर प्रदेश कांग्रेस सचिव जंग बहादुर जंगी ने कहा कि उनके (बेदी) परिवार पर जो हमला हुआ है, वो किसके इशारे पर हुआ है, इसकी पुलिस को जांच करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अब जब राज्य में कांग्रेस सत्ता में है, इसके बावजूद कांग्रेसी परिवार के सदस्य सुरेन्द्र बेदी (काका), जोकि जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष व अमित मिट्ठू वरिष्ठ जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष हैं, पर हमला होना कई सवालों को पैदा करता है। उन्होंने मांग की कि पुलिस निष्पक्ष जांच करके उनके परिवार को इंसाफ दिलाए।  

स्याल गुट ने नकारे हमले के आरोप
वहीं पार्षद स्याल गुट के लक्की ने कहा कि सब्जी मंडी में सफाई का काम उनके पास है तथा वह अपने दायित्वों को निष्ठापूर्वक करते आ रहे हैं। इसके बावजूद बेदी परिवार का सदस्य अमित मिट्ठू अकारण ही किसी न किसी मुद्दे को लेकर अपनी खोखली राजनीति चमकाने का प्रयास करता रहता है तथा बेतुकी फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर वायरल करता है। इसके बाद सोशल मीडिया पर उनके व पार्षद स्याल के विरुद्ध अभद्र टिप्पणियां करता है। मिट्ठू को कई बार इस बाबत रोका गया है। इसी कड़ी में आज जब उन्होंने मिट्ठू को आगाह किया तो वह उल्टा उनसे झगड़े व अभद्र व्यवहार पर उतर आया। इसी बीच सुरेन्द्र बेदी भी वहां आ पहुंचा तथा उन्हें घायल कर दिया।

क्या कहता है जंगी गुट?
इस भिड़ंत में घायल हुए अमित मिट्ठू निवासी सैनगढ़ ने बताया कि उन पर हमला बोला गया है। मिट्ठू के अनुसार वह रूटीन की भांति बाहर निकला था कि इसी बीच मॉडल टाऊन में उन पर बेसबॉल आदि से हमला कर दिया गया। जब उनके बचाव में उनका पारिवारिक सदस्य सुरेन्द्र बेदी (काका) वहां पहुंचा तो उसे भी दूसरे गुट के सदस्यों ने बुरी तरह मारपीट कर घायल कर दिया। वहीं जंगी गुट के दूसरे घायल सुरेन्द्र बेदी काका ने कहा कि उन पर अप्रत्याशित हमला हुआ है तथा इसमें वह और उनके परिवार का सदस्य अमित मिट्ठू बुरी तरह घायल हुए हैं। पुलिस प्रशासन को इसकी जांच करनी चाहिए तथा उन्हें न्याय दिलाया जाना चाहिए।

अस्पताल में दोनों गुटों की फिर से भिडने की संभावना के चलते पुलिस सुरक्षा बढ़ाई

इस संबंध में डिवीजन नं. 2 के थाना प्रभारी रविन्द्र सिंह रूबी ने कहा कि घायलों की मैडीकल रिपोर्ट आने के बाद बनती कार्रवाई की जाएगी। वहीं अस्पताल में दोनों गुटों की फिर से भिडऩे की संभावना के चलते पुलिस ने सिविल अस्पताल में सुरक्षा बढ़ा दी है तथा इस बात को सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया है कि फिर से ये दोनों गुट में आपस में न टकरा पाएं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन