आतंकवाद के खिलाफ लडऩे वाले पुलिस कर्मियों पर दर्ज मुकद्दमे रद्द करने की मांग

  • आतंकवाद के खिलाफ लडऩे वाले पुलिस कर्मियों पर दर्ज मुकद्दमे रद्द करने की मांग
You Are HerePunjab
Monday, November 13, 2017-11:07 PM

चंडीगढ़: शिवसेना पंजाब के राष्ट्रीय चेयरमैन राजीव टंडन व राष्ट्रीय प्रधान संजीव घनौली के नेतृत्व में शिव सैनिकों का एक शिष्टमंडल पंजाब की जेलों में बंद बेकसूर पुलिस कर्मचारियों की रिहाई की मांग संबंधी पंजाब के राज्यपाल से मिला। 

शिवसेना पंजाब के नेताओं ने कहा कि पंजाब की इतनी बड़ी लड़ाई लडऩे वाले ‘बहादुर’ पुलिस कर्मचारियों के प्रति सरकार और अदालतों को नरम रुख अपनाना चाहिए। शिवसेना पंजाब के राष्ट्रीय चेयरमैन टंडन ने कहा कि पंजाब के लोगों ने, खासकर हिंदू समाज ने 1980 से लेकर 1992 तक आतंकवाद का बहुत संताप झेला है। अगर पंजाब पुलिस बहादुरी से आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई न लड़ती तो आज पंजाब भारत से अलग हो खालिस्तान बन चुका होता। शिवसेना नेताओं ने गवर्नर से मांग करते हुए कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लडऩे वाले पुलिस कर्मचारियों के मुकद्दमे रद्द करने व उनको उनका मान-सम्मान देने पर विचार किया जाए।

उन्होंने पंजाब में हो रही हिंदू नेताओं की हत्याओं को रोकने के लिए सख्त उपाय व हिंदू नेताओं की सुरक्षा को यकीनी बनाने व आतंकवादियों को हीरो के रूप में दिखाने वाली प्रचार सामग्री बंद करवाने की भी मांग की। इस मौके पर शिवसेना पंजाब के महासचिव अमर टक्कर, राजेश पलटा, सोनी गर्ग, राकेश अरोड़ा, मुकेश कांगड़ा, संजीव सिंगला, पिं्रस शर्मा व डा. राजेंद्र चौधरी भी उपस्थित थे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!