चरणजीत हत्याकांड: पड़ोसी सुरेन्द्र ही निकला कातिल

  • चरणजीत हत्याकांड: पड़ोसी सुरेन्द्र ही निकला कातिल
You Are HerePunjab
Tuesday, December 12, 2017-12:01 PM

बस्सी पठाना(राजकमल): बस्सी पठाना के नजदीकी गांव मुल्लापुर में गत 2 दिसम्बर को गन्ने के खेतों से मिले अज्ञात व्यक्ति के शव के केस की गुथी को इन्वैस्टीगेशन उप-कप्तान हरपाल सिंह, दलजीत सिंह खख, डी.एस.पी. नवनीत कौर गिल की अगुवाई में थाना प्रभारी दलजीत सिंह व सी.आई.ए. स्टाफ के इंचार्ज हरमिन्दर सिंह ने सुलझाते हुए गांव चंडियाला के सुरेन्द्र पाल सिंह को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है।

सोशल मीडिया से हुई मृतक की पहचान
इस संबंधी एस.एस.पी. अल्का मीना ने बताया कि गन्ने के खेतों से मिले अज्ञात व्यक्ति के शव की पहचान को लेकर पुलिस ने मीडिया का सहारा लेते हुए उसकी फोटो भी सोशल मीडिया पर डाली थी। इसके बाद पता चला कि मृतक गांव चंडियाला थाना खमाणों का चरणजीत सिंह था, जो सुरेन्द्र पाल का पड़ोसी था। अंधे कत्ल केस में पुलिस को मामले की जांच दौरान पता चला कि मृतक चरणजीत सिंह तथा सुरेन्द्र पाल उर्फ बब्बू दोनों ही बेरोजगार थे तथा 1 दिसम्बर को काम की तलाश में गए थे। इसके बाद दोनों ने दिन में ही शराब पीनी शुरू कर दी।

मामूली कहासुनी बनी हत्या का कारण
मोरिंडा में शराब पीने के बाद दोनों ने फिर चुन्नी के नजदीक गांव मुल्लापुर के ठेके पर शराब पी। इस दौरान शराब के नशे में चरणजीत सिंह की सुरेन्द्र से किसी बात को लेकर मामूली कहासुनी हुई तथा उसे गालियां निकालीं। इस पर सुरेन्द्र ने उसकी हत्या का ही मन बना लिया था। वह चरणजीत को शराब की हालत में मुल्लापुर के सतिन्द्र सिंह के ट्यूबवैल पर ले गया था। जहां उसने शराब के नशे में चरणजीत सिंह पर ईंट से मुंह व सिर पर वार कर उसे मार दिया। इसके बाद उसने मृतक की लाश को अवतार सिंह के गन्ने के खेतों में फैंक दिया तथा उसके कपड़े, हत्या में इस्तेमाल की ईंट तथा मोबाइल भी साथ ले गया। मोबाइल की बैटरी भी गन्ने के खेतों में फैंक गया था। पुलिस ने हत्यारे की निशानदेही पर मृतक के कपड़े व मोबाइल फोन बरामद कर लिया है। पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश कर उसे एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन