कैप्टन ने अपनी सुरक्षा से 376 पुलिस मुलाजिम हटाए

  • कैप्टन ने अपनी सुरक्षा से 376 पुलिस मुलाजिम हटाए
You Are HerePunjab
Friday, April 21, 2017-7:41 PM

जालन्धर(धवन): पंजाब में कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने वी.आई.पी. सुरक्षा में कटौती करते हुए कुल 2000 पुलिस मुलाजिमों को वापस बुलाकर उन्हें पुलिसिंग के कार्य में लगाया है ताकि राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखा जा सके। 


मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने आज अपने प्रधान मुख्य सचिव सुरेश कुमार, डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा तथा ए.डी.जी.पी. इंटैलीजैंस दिनकर गुप्ता के साथ सुरक्षा को लेकर समीक्षा की।  मुख्यमंत्री ने स्वयं अपनी सुरक्षा में लगे कुल 1392 पुलिस मुलाजिमों में से 376 मुलाजिम वापस कर दिए हैं अब मुख्यमंत्री के पास 1016 मुलाजिम रह गए हैं। अन्य पूर्व मंत्रियों व पूर्व अकाली नेताओं से भी 1500 पुलिस मुलाजिमों को वापस बुलाया गया है। 


मुख्यमंत्री ने पहले ही निर्देश जारी कर दिए हैं कि ट्रैवल रूटों पर पुलिस मुलाजिमों को तैनात न किया जाए। प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने अपनी सुरक्षा में और कटौती करने के लिए आला पुलिस अधिकारियों को कहा है परन्तु इसके लिए खतरे के मापदंड को भी ध्यान में रखा जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें जरूरी सुरक्षा के अलावा फालतू सुरक्षा नहीं चाहिए। मुख्यमंत्री ने पुलिस व अन्य एजैंसियों का कहा कि पंजाब मंत्रिमंडल द्वारा मंजूर की गई सुरक्षा नीति को लागू किया जाए।


कैप्टन ने एजैंसियों को अपनी रिपोर्ट समीक्षा करने के बाद सौंपने के लिए कहा है। मुख्यमंत्री ने आला पुलिस अधिकारियों से कहा कि जरूरत व खतरे को देखकर सुरक्षा उपलब्ध करवाई जाए। मौजूदा सुरक्षा नीति 3 वर्ष पुरानी है इसलिए पुलिस को राज्य व केंद्रीय एजैंसियों से सुरक्षा संबंधी नई रिपोर्टें प्राप्त करनी चाहिए तथा उसके अनुसार सुरक्षा देनी चाहिए। कैप्टन अमरेन्द्र सिंह सरकार बनने के बाद दूसरी बार सुरक्षा की समीक्षा की गई है। पहले मार्च महीने में की गई थी जब 749 पुलिस व अद्र्धसैनिक बलों के जवानों को वापस बुलाया गया था। 


कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के सुरक्षा संबंधी नियमों की भी पालना की जाए। सुरक्षा प्राप्त व्यक्तियों को खतरे का ध्यान रखा जाना चाहिए। सुरक्षा विंग को इंटैलीजैंस विंग तथा फील्ड यूनिटों से नए सिरे से खतरे संबंधी रिपोर्टें प्राप्त करनी चाहिए। बैठक में निर्णय लिया गया कि जल्द ही सुरक्षा संबंधी समीक्षा का कार्य सम्पूर्ण कर लिया जाएगा तथा मुख्यमंत्री को अंतिम रिपोर्ट सौंप दी जाएगी। कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र में कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने कहा था कि राजनीतिज्ञों तथा अधिकारियों में वी.आई.पी. कल्चर को खत्म करने के लिए अनावश्यक सुरक्षा नहीं दी जाएगी। कैप्टन लगातार पुलिस सुधारों पर बल दे रहे हैं। 


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!