सेना कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लड़ने में अब इस स्वदेशी तकनीक का करेगी प्रयोग

  • सेना कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लड़ने में अब इस स्वदेशी तकनीक का करेगी प्रयोग
You Are HerePunjab
Sunday, August 13, 2017-3:21 AM

जालंधर(धवन): भारतीय सेना जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लड़ाई लडऩे में अब स्वदेशी तकनीक से तैयार किए गए ‘रोबोट’ का प्रयोग करेगी। सेना के प्रस्ताव के अनुसार उसे कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लडऩे के लिए 544 ‘रोबोट्स’ की आरंभ में जरूरत है। रक्षा मंत्रालय ने 544 ‘रोबोट’ तैयार करने की मंजूरी प्रदान कर दी है। प्रस्ताव में कहा गया है कि ‘रोबोट्स’ का प्रयोग सुरक्षा तथा निगरानी के लिए किया जाएगा। 

सुरक्षा एजैंसियों की जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय राइफल्स को ‘रोबोट्स’ से लडऩे में प्रवीणता हासिल है। राष्ट्रीय राइफल्स के जवान देश में पड़ोसी देशों द्वारा फैलाए गए परोक्ष युद्ध का सामना कर रहे हैं। ‘रोबोट’ से निगरानी करवाने से सेना व अद्धसैनिक बलों को काफी सहयोग मिल सकता है। हल्के वजन के ‘रोबोट’ में निगरानी कैमरे तथा ट्रांसमिशन सिस्टम लगा होगा जिसकी रेंज 200 मीटर तक होगी। सेना की जरूरतों में बताया गया है कि उक्त ‘रोबोट्स’ उचित मात्रा में गोला-बारूद उपलब्ध करवाने में भी सक्षम होंगे। सेना तथा सुरक्षा बलों द्वारा कश्मीर में आतंकियों के साथ-साथ सीमा पर पाकिस्तानी सेना से भी लोहा लिया जा रहा है। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You