शौहर की बेवफाई के बाद भारत पहुंची थी रूबीना, रिहाई के बाद अाखिर क्यों पाक जाने से लगता है डर

  • शौहर की बेवफाई के बाद भारत पहुंची थी रूबीना, रिहाई के बाद अाखिर क्यों पाक जाने से लगता है डर
You Are HereAmritsar
Wednesday, July 26, 2017-11:23 AM

अमृतसरः भारत-पाक के बीच जारी तल्खी के बीच भारत ने अपनी जेलों में कैद 11 पाकिस्तानियों को आजाद कर दिया। मंगलवार को यह लोग अटारी बार्डर के जरिए वतन लौट गए। सभी के चेहरों पर अपनों में पहुंचने की खुशी साफ झलक रही थी लेकिन आठ साल की बेटी जन्नातारा की उंगली पकड़ कर सरहद की आखिरी लकीर की तरफ बढ़ रही रुबीना के चेहरे पर कोई उल्लास नहीं था। उसके थके से कदम मशीन की तरह आगे बढ़ रहे थे।

 

सपाट चेहरे पर पीड़ा के साथ एक अनजाना सा खौफ कायम था। ऐसा इसलिए था क्योंकि रुबानी शौहर की बेवफाई के चलते छह साल जेल में रही और अब उसी मुल्क में जा रही है, जहां शायद उसके घर वाले उसे न रहने दें। बाॅर्डर सिक्योरिटी फोर्स के जवानों ने जिन 11 पाकिस्तानी नागरिकों को पाक रेंजर्स के हवाले किया उसमें चार गुजरात की जेल से , एक जाम नगर गुजरात की जेल से, एक कोच्चि केरला की जेल से, दो जम्मू की जेल से और तीन अमृतसर केंद्रीय जेल से रिहा हुए हैं। केंद्रीय जेल से रिहा हुई है रुबीना और उसकी बेटी।

 

रुबानी ने बताया कि उसका शौहर साल 2010 में उसे दिल्ली के एक निजी अस्पताल में इलाज करवाने के लिए लाया था। उस वक्त उसकी बेटी जन्नातारा बमुश्किल साल की थी। इलाज से जब वह ठीक हुई तो शौहर एकाएक गायब हो गया और अपने साथ वीजा और पासपोर्ट के सारे दस्तावेज भी ले गया। पहले तो उसने इधर-उधर तलाशा लेकिन जब कहीं पता नहीं लगा तो दूर के रिश्तेदारों के पास गई, लेकिन कहीं से कोई मदद नहीं मिली। वह बताती है कि आखिर में वह हार-थक कर 2012 में वह ट्रेन पकड़ा अमृतसर आ गई और बेटी को गोद में लेकर बार्डर के जरिए जाने लगी तो बीएसएफ ने उसे पकड़ लिया और फिर उसे जेल भेज दिया गया। उसका कहना है कि उसकी बेटी अमृतसर की जेल में ही बड़ी हुई है।

 

वह बताती है कि आठ साल की जन्ना तारा को अपने घर वालों के बारे नहीं पता, सिर्फ जेल के लोग ही उसके अपने थे। उसका कहना है कि वह घर तो जा रही है लेकिन पता नहीं वह लोग उसे घर में रहने भी दें कि नहीं। उसका कहना है कि अब तो उसके लिए बेटी की परवरिश ही उसकी जिंदगी का मकसद है। इसी तरह से मोहम्मद शहबाज ने बताया कि वह तीन दोस्त गांव नारोवाल में शादी समारोह में आए थे और गलती से डेरा बाबा नानक के रास्ते बार्डर क्रॉस कर गए और यहां पकड़े गए।
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You