किस नाम पर लगेगी राष्ट्रपति पद की मोहर, इन नेताअों ने डाले वोट

  • किस नाम पर लगेगी राष्ट्रपति पद की मोहर, इन नेताअों ने डाले वोट
You Are HereNational
Monday, July 17, 2017-4:45 PM

चंडीगढ़(भुल्लर/शर्मा): राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर चंडीगढ़  में वोटिंग हुई। खबर लिखे जानें तक पंजाब विधानसभा में 114 मैंबर्स ने वोट डाले। पंजाब के सी.एम.कैप्टन अमरेंद्र सिंह और पूर्व सी.एम. प्रकाश सिंह बादल ने भी वोट डाला। चुनाव को लेकर विधानसभा में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए।

इस मौके आम आदमी पार्टी के लीडर अमन अरोड़ा ने कहा कि हम सभी ने एकमत होकर विपक्ष की सांझी उम्मीदवार मीरा कुमार को राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर वोट डाला है और हम सब एकजुट हैं । अाप नेता एच.एस.फुल्का ने अपने इमोशन को देखते हुए अपनी व्यक्तिगत राय से वोट नहीं डाला है । 

 

अाप नेता एच.एस.फुल्का ने नहीं डाला वोट

84 दंगों से अाहत अाप नेता एच.एस.फुल्का ने विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार को वोट डालने से मना कर दिया,यहीं नहीं उन्होंने किसी को भी वोट नहीं डाला।


सिमरजीत सिंह बैंस की वोट रद्द

लोक इंसाफ पार्टी के एम.एल.ए. सिमरजीत सिंह बैंस की वोट रद्द कर दी गई क्योंकि  बेल्ट पेपर सही तरीके से फोल्ड न करने पर सीक्रेसी  लीक हो गई थी।
 

 

क्या है इन चुनाव में खास

1- यह दूसरा मौका होगा जब देश का कोई राष्ट्रपति दलित समुदाय से होगा। इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति के.आर. नारायणन दलित समुदाय से थे।

2- इस बार एक विशेष सीरियल नंबर वाले पेन और स्याही के जरिए निर्वाचक मंडल के सदस्य वोट डालेंगे। सदस्यों को दूसरा कोई और पेन वोटिंग चैंबर के अंदर ले जाने की इजाजत नहीं होगी। 2016 में हुए राज्यसभा सीटों के चुनाव के दौरान हरियाणा में हुए एक विवाद के बाद चुनाव आयोग ने इस विशेष पेन का इस्तेमाल करने का फैसला किया है। उपराष्ट्रपति चुनाव में भी इसका प्रयोग होगा।

3- इस बार अलग-अलग रंगों के बैलेट  पेपर का इस्तेमाल किया जाएगा। सांसदों के लिए हरे रंग का और विधायकों के लिए गुलाबी रंग का बैलेट पेपर होगा।

4- वीवी गिरी जो कि 1969 से 1974 तक भारत के राष्ट्रपति और इसके बाद वह पहले ऐसे शख्स बने जिन्होंने कार्यवाहक राष्ट्रपति का भी कार्यभार संभाला। उनको कार्यवाहक राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी तत्कालीन राष्ट्रपति जाकिर हुसैन के निधन के बाद दिया गया था।

5- नीलम संजीव रेड्डी एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति थे जिनको निर्विरोध चुना गया था। हालांकि इस चुनाव में उन्हें मिलाकर 37 लोगों ने नामांकन किया था लेकिन 36 उम्मीदवारों का नामांकन खारिज कर दिया गया था।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !