Subscribe Now!

2 बैंकों से करोड़ों की ट्रांजैक्शन करने वाले 11 संदिग्ध अकाऊंट पकड़े

  • 2 बैंकों से करोड़ों की ट्रांजैक्शन करने वाले 11 संदिग्ध अकाऊंट पकड़े
You Are HerePunjab
Sunday, January 21, 2018-12:26 AM

लुधियाना(धीमान): जी.एस.टी. के बिल बेचने वाले गिरोह को पकडऩे के लिए एक्साइज एंड टैक्सेशन विभाग हरकत में आ गया है। शनिवार को पटियाला से स्वयं एडीशनल कमिश्नर जी.एस.टी. इंवैस्टीगेशन सौरव राज लुधियाना के 2 बैंकों से रोजाना करोड़ों की ट्रांजैक्शन वाले 11 संदिगध अकाऊंट की डिटेल लेकर गए। 

इनमें रोजाना आर.टी.जी.एस. के जरिए पहले पैसे जमा होते हैं फिर इनमें से उसी दिन 40 लाख से 1 करोड़ रुपए तक कैश निकाल लिया जाता है। यहां बता दें कि पंजाब केसरी ने जी.एस.टी. के बिल बेचने का मामला उठाया था। उसके बाद एक्साइज एंड टैक्सेशन विभाग के उच्च आफिसर हरकत में आए। टीम ने सबसे पहले गिल रोड स्थित कैनरा बैंक से जानकारी हासिल की। वहां से विभिन्न कंपनियों के 9 संदिग्ध अकाऊंट सामने आए। इनमें सितम्बर 2017 से आज तक रोजाना छुट्टी वाले दिनों को छोड़ कर करोड़ों रुपए दिन में आर.टी.जी.एस. के जरिए जमा होते हैं और उसी दिन शाम को कैश निकालने की ट्रांजैक्शन हो रही है। 

इसके बाद टीम ने लिंक रोड पर इलाहाबाद बैंक से 2 अकाऊंट पकड़े। इनमें भी 40 लाख से 1 करोड़ रुपए तक रोजाना ट्रांजैक्शन हुई है। इलाहाबाद बैंक मैनेजर ने तो इनमें से भारी मात्रा में निकाली जा रही नकदी को देखते हुए एक अकाऊंट होल्डर को कैश देने से पिछले सप्ताह मना कर दिया। मैनेजर हरिंदर नरूला ने बताया कि उन्हें शक हो गया था कि अकाऊंट होल्डर कोई गलत धंधा कर रहा है जिसके चलते उसे 20 हजार रुपए से ज्यादा कैश देने पर रोक लगा दी। दूसरे अकाऊंट होल्डर को किसी दूसरे बैंक में अकाऊंट खोलने के लिए कह दिया गया। सूत्रों के मुताबिक अधिकारियों ने जो अकाऊंट पकड़े हैं ऐसे लुधियाना में सैंकड़ों अकाऊंट हैं जो रोजाना करोड़ों की नकदी देने में गुरेज नहीं करते। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन