Subscribe Now!

ऑनलाइन लाइसैंस आवेदन प्रक्रिया बनने लगी जी का जंजाल...

  • ऑनलाइन लाइसैंस आवेदन प्रक्रिया बनने लगी जी का जंजाल...
You Are HereJalandhar
Wednesday, February 14, 2018-10:09 AM

जालंधर(अमित): परिवहन विभाग में लाइसैंस आवेदन को लेकर आम जनता बिना किसी कसूर के पिस रही है क्योंकि ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया लोगों के जी का जंजाल बनने लगी है। कहने को तो विभाग ने जनता की सहूलियत के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू किए हैं। मगर धीरे-धीरे यह बात साफ होने लगी है कि ऑनलाइन आवेदन से जनता को सुविधा नहीं बल्कि दुविधा हो रही है।

परिवहन विभाग में किसी प्रकार की सुविधा लेना कितना मुश्किल है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आम जनता को पहले तो अपने लाइसैंस आवेदन के लिए विभाग की वैबसाइट पर जाकर एक से दो महीने बाद की तारीख वाली अप्वाइंटमैंट दी जाती है। मगर इतना लंबा इंतजार करने के बाद भी आवेदन स्वीकार होगा या नहीं इसको लेकर कोई गारंटी नहीं है।

जान-पहचान वालों को मिल जाती है आसानी से अप्वाइंटमैंट
मनदीप ने कहा कि बड़ी हैरानी वाली बात है कि जहां एक आम आदमी को अपने लाइसैंस आवेदन के लिए 85 दिन का लंबा इंतजार करना पड़ रहा है, वहीं कर्मचारियों की जान-पहचान वालों या वी.आई.पी. व्यक्तियों को बड़ी आसानी से अपनी मर्जी की अप्वाइंटमैंट मिल जाती है।

क्या है मामला, कैसे आया सामने?
मनदीप कुमार पुत्र रोशन लाल ने अपने लर्निंग लाइसैंस आवेदन के लिए विभाग की वैबसाइट पर 2 जनवरी, 2018 को आवेदन किया। जिसमें उसे 14 फरवरी को 2 से 4 बजे के बीच की अप्वाइंटमैंट मिल गई। मनदीप ने कहा कि मंगलवार को उसे एक टैक्सट मैसेज आया, जिसमें बताया गया था कि किसी परेशानी की वजह से उसकी अप्वाइंटमैंट को 28 मार्च के लिए री-शैड्यूल कर दिया गया है।

मनदीप ने कहा कि जिस दिन उसने आवेदन किया था, उस दिन कम्प्यूटर ने सरकारी अवकाश वाले दिन के लिए अप्वाइंटमैंट दे दी। लगभग 43 दिन के लंबे इंतजार के बाद जब उसकी बारी आई, तो उसे एक बार फिर से 42 दिन के लिए लाइन में लगा दिया गया। इससे साफ है कि एक लॄनग लाइसैंस आवेदन के लिए उसे 85 दिन का इंतजार करना पड़ रहा है और 28 मार्च को भी उसका आवेदन स्वीकार हो पाएगा या नहीं इसको लेकर कुछ भी कहना फिलहाल संभव नहीं है। 

फिलहाल आऊट-आफ-टर्न की कोई व्यवस्था नहीं, जल्दी होगा परेशानी का समाधान : सैक्रेटरी आर.टी.ए.
सैक्रेटरी आर.टी.ए. दरबारा सिंह ने कहा कि फिलहाल ऑनलाइन प्रक्रिया के अंदर आऊट-आफ-टर्न अप्वाइंटमैंट की कोई व्यवस्था है ही नहीं। मगर सरकार के पास इस बात को लेकर लिखा गया है कि कुछ लोगों को आऊट-आफ-टर्न अप्वाइंटमैंट देना अनिवार्य है, जिसके चलते जल्द ही इस परेशानी का समाधान हो जाएगा।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन